आयुर्वेद चिकित्सकों की दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला 17 से

आयुर्वेद चिकित्सकों की दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला 17 से

उदयपुर 9 मार्च/आयुर्वेद विभाग राजस्थान सरकार, नेशनल आयुर्वेद स्टूडेन्ट्स एण्ड यूथ एसोशिएशन, आदर्श क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी व श्री जैन श्वेताम्बर तेरापंथ, स्वयंसेवी संस्थाओ व जनसहयोग के साझे में 17 व 18 मार्च को अन्तर्राष्ट्रीय कार्यशाला व 16 से 20 मार्च तक विशाल निःशुल्क आयुर्वेद न्युरोथेरेपी चिकित्सा शिविर का आयोजन उदयपुर में किया जाएगा।
देश-विदेश के 300 से अधिक आयुर्वेद विशेषज्ञों की भागीदारी
कार्यक्रम के मुख्य संयोजक वैद्य शोभालाल औदिच्य ने बताया कि में डायबिटीज पर 2 दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय कार्यशाला प्रमेह मंथन, प्रसिद्व आयुर्वेद नाड़ी विशेषज्ञ वैद्य असित पांजा के निर्देशन में होगी, जिसमें देश-विदेश के 300 से अधिक आयुर्वेद विशेषज्ञो का आना प्रस्तावित है। कार्यशाला के दौरान कोटा के प्रसिद्ध आयुर्वेद न्युरोथेरेपी विशेषज्ञ वैद्य मनोज शर्मा के निर्देशन में 5 दिवसीय विशाल निःशुल्क आयुर्वेद न्युरोथेरेपी चिकित्सा शिविर का आयोजन तेरापंथ भवन उदयपुर में 16 से 20 मार्च तक प्रस्तावित है। इस शिविर में भारतवर्ष से 80 न्युरोथेरेपिस्ट सेवाएं देंगे। वैद्य औदिच्य ने बताया कि इस शिविर के दौरान सर्वाइकिल स्पोंडिलाइटिस, सायटिका, फ्रॉजन शोल्डर, ज्वाइन्ट पेन, कमर दर्द, घुटनां का दर्द आदि का इलाज किया जायेगा।
दो दिवसीय कार्यशाला के प्रथम दिन 17 मार्च को चिकित्सकों के लिए वैज्ञानिक सत्र में श्लोक पाठ व ग्रुप डिस्कशन होगा। वहीं दूसरे दिन आमजन व चिकित्सक दोनो के लिए उपयोगी गतिविधियों में योग, श्लोक पाठ, ओपीडी स्तर पर क्लिनिकल डाटा मेनेजमेंट प उनका प्रकाशन, प्रमेय एप, प्रमेह जागरूकता वार्ता व सुपर स्पेशिलियटी प्रमेह लाइव किचन आदि का आयोजन होगा।
नेशनल आयुर्वेद स्टुडेन्ट्स एण्ड यूथ एसोशियशन के राजस्थान प्रान्त के अध्यक्ष वैद्य संजय माहेश्वरी ने बताया कि नस्या आयुर्वेद को मुख्य धारा में लाने के उद्देश्य से व जनसेवा के लिए एक पंजीकृत संगठन है जो भारतवर्ष में 25 से अधिक राज्यां में विभिन्न प्रकल्पों द्वारा सेवा कार्य कर रहा हैं। इस कार्यशाला में 10 से अधिक देशों, भारत के 10 से अधिक राज्यों व राजस्थान के प्रत्येक जिले से वैज्ञानिक, अध्यापक, चिकित्सक, शोधार्थी, छात्र-छात्राएं व आमजन भाग लेंगे।