इन्वेस्ट राजस्थान 2022 : वादों की बजाए वास्तविक निवेश को धरातल पर लाने पर दिया जा रहा है जोर - उद्योग मंत्री

इन्वेस्ट राजस्थान 2022 : वादों की बजाए वास्तविक निवेश को धरातल पर लाने पर दिया जा रहा है जोर - उद्योग मंत्री

जयपुर, 18 जुलाई। उद्योग मंत्री श्रीमती शकुंतला रावत ने कहा कि इन्वेस्ट राजस्थान समिट-2022 के लिए आए कुल एमओयू और एलओआई के 4192 प्रस्तावों में से 493 प्रस्ताव क्रियान्वित हो चुके हैं, जबकि 1067 प्रस्तावों में क्रियान्वयन प्रारंभ हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहली बार ऐसा हो रहा है जब वादों की बजाए वास्तविक निवेश को धरातल पर लाने पर जोर दिया जा रहा है।

श्रीमती रावत सोमवार को 7 और 8 अक्टूबर को आयोजित होने वाले इन्वेस्ट राजस्थान -2022 के लिए होने वाले एमओयू और एलओआई के संबंध में वीसी के माध्यम से जिला कलेक्टर्स और संभागीय आयुक्तों से चर्चा कर रही थीं। उन्होंने कहा कि जिलों में समिट को लेकर उत्साहजनक तैयारी चल रही है। उन्होंने जिला कलेक्टर्स को निवेशकों से संपर्क करने और किसी भी तरह की आने वाली समस्या के तुरंत निस्तारण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निवेशकों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

उद्योग मंत्री ने निर्देश करते हुए कहा कि संभागीय आयुक्त और संबंधित अधिकारी एमओयू और एलओआई पोर्टल पर निरंतर अपडेट करते रहें। उन्होंने जिला एवं विभागीय स्तर पर लंबित मुद्दों का शीघ्र समाधान करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रमोटर के स्तर पर लंबित प्रकरणों में फॉलोअप कर शीघ्र क्रियान्वयन किया जाए। उन्होंने जिला कलक्टर के स्तर पर नियमित एमओयू और एलओआई का फॉलोअप करने के भी निर्देश दिए।

श्रीमती रावत ने निर्देश देते हुए कहा कि नए एमओयू चिन्हित कर जीएम डीआईसी के माध्यम से उद्योग विभाग को भेजे जाएं। उन्होंने इंवेस्ट राजस्थान समिट में ऐसे एमओयू या एलओआई जिनका शिलान्यास या उद्घाटन किया जाना संभव हो सके उनको प्राथमिकता से चिन्हित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने एमओयू और एलओआई से संबंधित क्लियरेंस या अप्रूवल से संबंधित सभी आवेदन राजनिवेश पोर्टल पर आवश्यक रूप से करने के भी निर्देश दिए, ताकि निवेशकों को किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।

अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती वीनू गुप्ता ने कहा कि जिला कलेक्टर्स के स्तर पर अब तक 125 से ज्यादा बैठकें की जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि 14 मई को मुख्य सचिव के स्तर पर भी सभी जिला कलेक्टर्स के साथ बैठक की जा चुकी है। कलेक्टर्स से लगातार संवाद बना हुआ है ताकि समिट सफल हो और प्रदेश में ज्यादा से ज्यादा निवेश हो।

बैठक में वीसी के माध्यम से उर्जा, नगरीय विकास, पर्यटन, कृषि सहित कई विभाग के प्रमुख शासन सचिव स्तर के अधिकारियों से भी चर्चा कर उनके स्तर आने वाली किसी भी समस्या के तुरतं निस्तारण के निर्देश दिए।

बीआईपी आयुक्त श्री ओम कसेरा ने पीपीटी प्रजेंटेशन के द्वारा प्रदेश में हुए एमओयू और एलओआई की प्रगति के संबंध में बताया। बैठक में राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त श्री धीरज श्रीवास्तव, उद्योग आयुक्त श्री महेन्द्र पारख, रीको प्रबंध निदेशक श्री शिवप्रसाद नकाते सहित अन्य अधिकरीगण उपस्थित रहे। वीसी के माध्यम से संबंधित अधिकारी जुड़े रहे।

गौरतलब है कि आगामी 7 और 8 अक्टूबर को जयपुर के जेईसीसी (सीतापुरा) में आयोजित होने वाले इन्वेस्ट राजस्थान में करीब 3000 कंपनियों की भागीदारी प्रस्तावित है।
  • Powered by / Sponsored by :