तृणमूल कांग्रेस के सांसदों के नेतृत्व में विपक्ष का एक प्रतिनिधिमंडल ने सेबी के अधिकारीयों से मुलाकात की, कहा- स्टॉक मार्केट में बड़ा घोटाला . . .

तृणमूल कांग्रेस के सांसदों के नेतृत्व में विपक्ष का एक प्रतिनिधिमंडल ने सेबी के अधिकारीयों से मुलाकात की, कहा- स्टॉक मार्केट में बड़ा घोटाला . . .

तृणमूल कांग्रेस के सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को सिक्युरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) के अधिकारियों से मुलाकात की और लोकसभा चुनाव के नतीजों के दिन और उससे एक दिन पहले शेयर बाजार में कथित जोड़तोड़ पर चिंता जताई थी। टीएमसी के कल्याण बनर्जी का कहना है कि नतीजों के बाद शेयर मार्केट में 30 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। यह स्कैम है, अमित शाह ने नतीजों से पहले एक इंटरव्यू में कहा था कि जमकर शेयर खरीदो। उनका इससे क्या लिंक है, इस स्कैम के पीछे नरेंद्र मोदी और अमित शाह हैं। इस मामले की जांच होनी चाहिए. वहीं सागरिका घोष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन और अमित शाह से इस्तीफे की मांग की।
इसके लेकर TMC की राज्यसभा सांसद सागरिका घोष ने कहा कि हम सेबी मुद्दे पर बात करेंगे जो कि हमारे स्वतंत्रता के बाद के इतिहास का सबसे बड़ा इनसाइडर ट्रेडिंग घोटाला है। यह स्टॉक मार्केट एग्जिट पोल घोटाला है। उन्होंने कहा कि हम मोदी सरकार के संघीय आतंकवाद के बारे में बात करेंगे जो कि भेदभावपूर्ण आतंकवाद है, जिस तरह से केंद्र सरकार बंगाल सरकार के साथ गंदे, असभ्य तरीके से व्यवहार कर रही है। उन्होंने कहा कि पहले, हमारा बकाया नहीं दिया गया और अब मोदी सरकार ऑस्ट्रेलिया के उप उच्चायुक्त को अनुमति क्यों नहीं दे रही है जो हमारे मंत्री से मिलने बंगाल जा रहे थे। 31 मई को, कुछ विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शेयर बाजार में अपने लेनदेन को दोगुना कर दिया। क्या यह इसलिए था क्योंकि एग्जिट पोल 1 जून को आने वाले थे? क्या इन चुनिंदा संस्थागत निवेशकों को एग्जिट पोल के बारे में पता था? क्या उन्हें इस बारे में जानकारी थी कि एग्जिट पोल क्या बताने वाले हैं?
बतादें कि तृणमूल कांग्रेस के सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को सिक्युरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) के अधिकारियों से मुलाकात कर शेयर बाजार में कथित हेरफेर में जांच कराने की मांग की। विपक्ष नेताओं ने इस महीने की शुरुआत में एग्जिट पोल के बाद शेयर बाजार में हेरफेर करने का आरोप लगाया था। सेबी के अधिकारियों से मिलने वाले तृणमूल कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल में टीएमसी के सांसद कल्याण बनर्जी, सागरिका घोष और साकेत गोखले शामिल थे। उनके साथ शिवसेना यूबीटी सांसद अरविंद सावंत और एनसीसीएसपी की पूर्व विधान पार्षद विद्या चौहान भी सेबी अधिकारियों से मिले।
  • Powered by / Sponsored by :