जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओला एवं जिला पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार विष्नोई की संयुक्त अध्यक्षता में शांति समिति की बैठक

जिला कलेक्टर सुरेश कुमार ओला एवं जिला पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार विष्नोई की संयुक्त अध्यक्षता में शांति समिति की बैठक

सवाई माधोपुर, 4 अगस्त। शांति समिति की बैठक का आयोजन जिला कलेक्टर सुरेष कुमार ओला एवं जिला पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार विष्नोई की संयुक्त अध्यक्षता में गुरूवार को बामनवास थाने में हुआ।
जिला कलेक्टर ने कहा कि क्षेत्र में आपसी भाईचारा, साम्प्रदायिक सौहार्द बनाये रखना हम सबकी सामूहिक एवं नैतिक जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि दो वर्ग, समुदाय, सम्प्रदाय तथा जाति के लोग आपस में लड़कर गांव, कस्बे शहर के सौहार्दपूर्ण वातावरण को दूषित न करें। उन्होंने कहा कि जमीन एवं पारिवारिक मसले का हल मिलजुल कर, बैठकर आपसी भाई चारे से करें और अपनी क्षेत्र में साम्प्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेष करें।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सवाई माधोपुर जिले का हर परिवार प्राथमिकता से पंजीकरण करवाए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य बीमा योजना के अन्तर्गत जिले में 84 प्रतिषत परिवारों का पंजीकरण हो गया है। अभी भी 16 प्रतिषत लोग इस योजना में पंजीकरण करवाने से वंचित है। उन्होंने कहा कि इस योजना में न सिर्फ सरकारी बल्कि निजी एनपेनल्ड अस्पतालों में 10 लाख रूपए तक का निःषुल्क ईलाज होता है। वहीं 5 लाख रूपए तक का इस योजना के तहत बीमा भी होता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना हम सबके लिए हितकारी है। इसका व्यापक प्रचार-प्रसार कर वंचित परिवारो को इससे जोड़ा जाए।
जिला पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार विष्नोई ने कहा कि हमारे जिले के थानों में 50 प्रतिषत मुकदमें पारिवारिक घर की लड़ाई के मामले हैं। उन्होंने कहा कि जमीन एवं परिवारिक विवाद अपने गांव, शहर, कस्बे में समाज के बीच आपस में बैठकर सुलझाए। उन्होंने कहा कि जिले में युवाओं में स्मैक का नषा तेजी से फैल रहा है। उन्होंने कहा कि यह जहर है एक बार जो इसका आदि हो जाता है उसके बाद इससे छुटकारा पाना बहुत मुष्किल है। उन्होंने बामनवास के मोजीज लोगों से युवाओं को स्मैक की लत से दूर रहने की समझाइष करने का आग्रह किया। उन्होंने ट्राफिक नियमों का विशेषकर युवओं से पालन करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि दुर्घटना में दुपहिया वाहन चालकों की मृत्यु के कारण सिर पर चोट लगना होता है। हैलमेट पहनने से दुर्घटना में सिर पर चोट नहीं लगने के कारण व्यक्ति की मृत्यु होने की सम्भावना कम हो जाती है।
इस दौरान उपखण्ड अधिकारी बामनवास जोगेन्दर अवाना, डिप्टी एसपी तेजसिंह पाठक, ग्राम रक्षक, सीएलजी सदस्य, सुरक्षा सखी सहित अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।
  • Powered by / Sponsored by :