आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने दिल्ली की मस्जिद में डॉ. इमाम उमर अहमद इलियासी से मुलाकात की, इलियासी ने मोहन भागवत बताया 'राष्ट्र ऋषि'

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने दिल्ली की मस्जिद में डॉ. इमाम उमर अहमद इलियासी से मुलाकात की, इलियासी ने मोहन भागवत बताया 'राष्ट्र ऋषि'

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने आज गुरुवार को दिल्ली में ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन के मुख्य इमाम डॉ. उमेर अहमद इलियासी से मुलाकात की। ये मुलाकात दिल्ली के कस्तूरबा गाँधी मार्ग मस्जिद में हुई और करीब एक घंटे चली। भागवत के साथ संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी कृष्ण गोपाल, राम लाल और इंद्रेश कुमार भी थे। हालांकि कि मुलाकात की स्पष्ट वजह सामने नहीं आई है। मोहन भागवत की डॉ उमेर अहमद इलियासी से दो महीने में यह दूसरी मुलाकात है। इस मुलाकात के बाद उमेर अहमद इलयासी नें मोहन भागवत को राष्ट्रपिता और राष्ट्र ऋषि बताया है। उमैर इलयासी ने कहा कि, मोहन भागवत का हमारे यहां आना एक सौभाग्य की बात है। वो इमाम हाउस पर आज मुलाकात करने आए और वो हमारे राष्ट्रपिता और राष्ट्र ऋषि हैं।
उन्होंने कहा, देश की एकता, अखंडता बनी रहनी चाहिए, हमारी पूजा करने के तरीके अलग हो सकते हैं और उससे पहले हम सब इंसान हैं और इंसानियत हमारे अंदर रहनी चाहिए और हम भारत में रहते हैं तो हम भारतीय हैं. भारत विश्व गुरु बनने की कगार पर पहुंच रहा है और भारत को विश्व गुरु बनाने के लिए हम सभी को प्रयासरत रहना चाहिए। हालांकि सियासी जानकर इस मुलाकात को संघ की बड़ी तैयारी का हिस्सा बता रहे है।
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ इस समय देश ही नहीं, दुनिया के सबसे बड़े संगठनों में से एक है। उसका देश के हिंदू समाज पर गहरा प्रभाव है। स्वयं मोहन भागवत का मस्जिद में आकर मुलाकात करना यह संदेश देता है कि संघ उनसे परस्पर बेहतर संबंध रखना चाहता है और उनके मन में संघ के प्रति फैले भ्रम को दूर करना चाहता है।
आरएसएस प्रचार प्रमुख सुनील आंबेकर ने कहा आरएसएस सरसंघचालक जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों से मिलते हैं। यह निरंतर सामान्य ‘संवाद’ प्रक्रिया का हिस्सा है। मदरसे में मुलाकात के बाद आरएसएस के इंद्रेश कुमार ने कहा कि ये एक प्रयत्न है। 70 साल से तो लड़वा ही रहे हैं. जोड़ने वाले लोग ताकत से लड़ेंगे तो बांटने वाले कमजोर होंगे। हिंदू-मुस्लिम करना गलत है।
संघ प्रमुख मोहन भागवत से मिलने वालों में पूर्व उपराज्यपाल नजीब जंग, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी, पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीकी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति जमीरुद्दीन शाह और कारोबारी सईद शेरवानी शामिल थे।
  • Powered by / Sponsored by :