विधानसभा सत्र के दौरान प्रदेश लंबी रोग पर नियंत्रण को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और गोविंद सिंह डोटासरा के बीच तीखी नोकझोंक, सदन में दो विधेयक पारित

विधानसभा सत्र के दौरान प्रदेश लंबी रोग पर नियंत्रण को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और गोविंद सिंह डोटासरा के बीच तीखी नोकझोंक, सदन में दो विधेयक पारित

राजस्थान विधानसभा के सप्तम सत्र के दूसरे चरण का आज तीसरा दिन है। सदन में आज भी लंबी रोग के विषय को लेकर हंगामा हुआ। भाजपा विधायक के द्वारा प्रदेश में लंबी रोग पर नियंत्रण के कार्य-योजना को लेकर पूछे प्रश्न के दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और गोविंद सिंह डोटासरा के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई। विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी दोनों नेताओं को शांत कराया।
प्रश्नकाल के दौरान भाजपा विधायक चंद्रभान सिंह आक्या ने प्रदेश में लंबी रोग पर नियंत्रण के कार्य-योजना को लेकर सवाल किये। जिसके बाद सदन में हंगामा देखने को मिला। भाजपा विधायक के सवाल पर पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया ने जवाब दिया कि राज्य सरकार गौवंश को लम्पी स्किन बीमारी से बचाने के लिए पूरी संवेदनशीलता और सजगता के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि अप्रैल-2022 में इस बीमारी के संक्रमण की जानकारी मिली और 12 मई को बीमारी की रोकथाम के लिए गाइड लाइन जारी कर दी गई थी। उन्होंने बताया कि एक ही दिन में 95 हजार गायों में टीकाकरण किया गया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने लम्पी बीमारी की पहली समीक्षा बैठक में 30 करोड़ रुपए आवंटित किए गए थे। साथ ही विधायकों ने भी अपने विधायक कोष से 10-10 लाख रुपए इस बीमारी के नियन्त्रण के लिए दिए थे। कटारिया ने आगे जवाब देते हुए कहा कि सरकार द्वारा 45 लाख गोट पॉक्स वैक्सीन खरीदने के आदेश दिए गए थे जिनमें से 16 लाख वैक्सीन प्राप्त हो गई है। उन्होंने कहा कि इस बीमारी को लेकर औषधि आपूर्ति के लिए 40 करोड़ रुपए कॉनफैड के माध्यम से दिए जाएंगे जिसमें 6 करोड़ रुपए जिलों को दिए जा चुके हैं तथा शीघ्र ही अतिरिक्त 7 करोड़ रुपए भी कॉनफैड के माध्यम से दिये जाएंगे।
प्रश्न में हस्तक्षेप करते हुए नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि अगर भारत सरकार लंपी रोग को राष्ट्रीय आपदा घोषित नहीं करती है तो क्या राज्य सरकार प्रभावित पशुपालकों को मुआवजा देने का विचार रखी है क्या? इसी बीच गोविंद सिंह डोटासरा ने खडे होकर कहा कि केंद्र सरकार राष्ट्रीय आपदा घोषित क्यों नहीं करेगी? इसे लेकर डोटासरा और कटारिया के बीच तीखी नोकझोंक हुई और सदन में हंगामा शुरू हो गया।
सदन में दो विधेयकों को लेकर चर्चा हुई, इस दौरान नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने राजस्थान कृषि उपज मंडी (संशोधन) विधेयक 2022, राजस्थान कृषि उपज मंडी संशोधन विधेयक पारित करने का विरोध किया, उन्होंने कहा कि हम इस काले कानून को पास करने का विरोध करते है, इसके बाद भाजपा विधायक सदन से बाहर चले गए।
  • Powered by / Sponsored by :