महंगाई और बेरोजगारी एक बहाना है। मूल वजह ईडी को डराना, धमकाना और परिवार को बचाना है - रविशंकर प्रसाद

महंगाई और बेरोजगारी एक बहाना है। मूल वजह ईडी को डराना, धमकाना और परिवार को बचाना है - रविशंकर प्रसाद

कांग्रेस पार्टी द्वारा महँगाई, बेरोजगारी को लेकर विरोध प्रदर्शन किया गया। राहुल गाँधी ने कहा कि हमें महंगाई पर प्रदर्शन नहीं करने दे रहे हैं। हमें संसद में बोलने नहीं दिया जाता है, सड़क पर अरेस्ट किया जाता है। राहुल गाँधी की इन सभी बयानबाजी का जवाब देते हुए बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने आज साफ झूठ बोला है। दो दिन पहले जब सदन में चर्चा हुई तो उसमें कांग्रेस के लोगों ने भाग लिया या नहीं? बहुत तीखे और निम्न स्तर के आरोप लगाए या नहीं? महंगाई और बेरोजगारी की चर्चा तो एक बहाना है। सही वजह है ईडी को डराना, धमकाना और परिवार को बचाना।

उन्होंने कहा कि जब महंगाई पर चर्चा होती है, तो राहुल गांधी चर्चा में आते नहीं, सदन में वॉक आउट कर जाते हैं। निर्मला जी ने सदन में विस्तार से उत्तर दिया कि कोविड की समस्या के बावजूद भारत की आर्थिक व्यवस्था दुनिया के कई देशों की तुलना में बेहतर है। सबसे अधिक पूंजी निवेश हुआ है। दुनिया की बड़े-बड़े संस्थाओं ने भी भारत के आर्थिक मैनेजमेंट की सराहना की है। राहुल गांधी की दादी ने देश में आपातकाल लगाया था। आपातकाल में बड़े-बड़े पत्रकारों को जेल भेजा था। राहुल गांधी की दादी जी ने committed judiciary की बात की थी। आपको कुछ याद है? आप हमें लोकतंत्र की नसीहत देते हैं। क्या आपकी पार्टी में लोकतंत्र है? कांग्रेस का लोकतंत्र, भ्रष्टाचारतंत्र था।

उन्होंने कहा कि आज नरेन्द्र मोदी की अगवाई में सत्ता के गलियारों में बिचौलियों के लिए दरवाजे बंद हैं। डिफेंस डील में कोई कट नहीं लगता। कांग्रेस और उनका भ्रष्टाचारी तंत्र इससे परेशान है। इसी की व्यथा राहुल गांधी की बातचीत में दिखती है।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी कहते हैं कि वो झूठ नहीं बोलते, तो वे बताएं कि वो बेल पर क्यों हैं। नेशनल हेराल्ड अखबार किसी कारण से नहीं चल पाया। 80 करोड़ रुपये से ऊपर की देनदारी थी। 2010 में एसोसिएटेड जनरल ने इसका पूरा शेयर यंग इंडिया को दे दिया। इसी यंग इंडिया में 38% हिस्सेदारी सोनिया गांधी और 38% हिस्सेदारी राहुल गांधी की थी। इन्होंने सिर्फ 50 लाख रुपये नेशनल हेराल्ड को दिया और कांग्रेस ने 80 करोड़ रुपये का लोन माफ कर दिया। करीब 5000 करोड़ रुपये की नेशनल हेराल्ड की संपत्ति इस फैमली कंट्रोल ट्रस्ट के नाम लाई गई। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी दिल्ली हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट गए, जहां ये केस रिजेक्ट हुआ और बाद में बेल लेनी पड़ी।

उन्होंने आगे कहा कि राहुल गांधी ने आज स्टार्ट अप्स का मजाक उड़ाया है। क्या उन्हें सही जानकारी मिलती है? क्या उन्हें पता है कि भारत का स्टार्टअप ईको सिस्टम आज दुनिया का तीसरे-चौथे नंबर का है? क्या उन्हें पता है कि भारत में आज 100 से अधिक यूनिकॉर्न हैं?
  • Powered by / Sponsored by :