अजित पवार के गुट के 19 विधायक शरद पवार के संपर्क में, मानसून सत्र के बाद शरद गुट में हो सकते हैं शामिल - रोहित पवार

अजित पवार के गुट के 19 विधायक शरद पवार के संपर्क में, मानसून सत्र के बाद शरद गुट में हो सकते हैं शामिल - रोहित पवार

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव से पहले राजनीति हलचलें तेज हो गई हैं। इस समय महाराष्ट्र राजनीति में सबसे ज्यादा चर्चा अजीत पवार की चल रही हैं। टाइम्स नाउ को सूत्रों से मिली जानकारी में सामने आया है कि स्थानीय बीजेपी नेताओं और शिवसेना के सदस्यों का मानना है कि अजीत पवार के महायुति में शामिल होने से कोई लाभ नहीं हुआ है, बल्कि इससे परेशानी ही पैदा हुई है। शिवसेना नेता डिंडोरी, माढा, सोलापुर, मावल और शिरुर लोकसभा सीटों पर महायुति की हार के लिए अजित पवार की अगुवाई वाली एनसीपी को जिम्मेदार मान रहे हैं।
वहीं दूसरी ओर शरद पवार वाली नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) के विधायक और शरद पवार के पोते रोहित पवार ने दावा किया है कि अजित पवार के गुट के 19 विधायक उनके संपर्क में हैं। इस सभी विधायक मानसून सत्र के बाद शरद पवार गुट में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि राकांपा के कई विधायक हैं, जिन्होंने जुलाई 2023 में पार्टी में हुए विभाजन के बाद कभी भी पार्टी के संस्थापक शरद पवार और अन्य वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ गलत बात नहीं की। 2019 के चुनावों में NCP ने 54 विधानसभा सीटें जीती थीं। जुलाई 2023 में जब पार्टी विभाजित हुई, तो अजीत पवार के नेतृत्व वाले गुट ने लगभग 40 विधायकों के समर्थन का दावा किया था।
बतादें कि महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से इंडिया गठबंधन ने 30 सीटों पर जीत दर्ज कर बीजेपी को करारा झटका दिया है। महाराष्ट्र में आगामी अक्टूबर में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। जून 2022 में शिवसेना से अलग होकर भाजपा के समर्थन से एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बने और बाद में शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) से अलग होकर जुलाई 2023 में उप-मुख्यमंत्री बने अजित पवार दोनों के दलों का प्रदर्शन इस लोकसभा चुनाव में कमज़ोर रहा है। महाराष्ट्र विधानसभा का सत्र 27 जून से 12 जुलाई तक चलेगा। विधानसभा की 288 सीटों पर अक्टूबर में चुनाव हो सकते हैं। महाविकास अघाड़ी (शिवसेना (UBT), NCP (SCP), कांग्रेस) साथ में चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुका है।
  • Powered by / Sponsored by :