वाहन चोरी व फर्जी आरसी बनाने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश

वाहन चोरी व फर्जी आरसी बनाने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश

जोधपुर 16 नवम्बर। पश्चिम जिले की थाना चौपासनी हाउसिंग बोर्ड पुलिस ने वाहन चोरी व फर्जी आरसी बनाने वाले अंतर राज्य गिरोह का खुलासा कर सोमवार को तीन लग्जरी क्रेटा गाड़ियों व 24 हैवी व्हीकल्स व 01 क्रेटा गाड़ी की फर्जी आरसी के साथ तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। नई दिल्ली, गुडगाव व अन्य शहरों में महंगी लग्जरी गाड़ियों को फाईनेन्स पर लेकर एक-दो किश्त चुकाने के बाद उन गाड़ियों का चोरी होना या एक्सीडेन्ट का मुकदमा दर्ज करवा कर गिरोह फिर उन्ही गाड़ियों के नये नम्बर फर्जी दस्तावेज तैयार करवा कर ले लेते है और आगे बेच देते है। यह गिरोह अब तक करोडो रूपये कमा चुका है।
डीसीपी पश्चिम दिगत आनन्द ने बताया कि मुखबिर से मिली सूचना पर सोमवार को थानाधिकारी चौपासनी हाउसिंग बोर्ड लिखमा राम मय टीम ने एम्स रोड स्थित मंगलम रेस्टोरेंट के पास दबिश दी। जहां क्रेटा गाड़ियां खड़ी थी। चोरी की होने के संदेह पर तीनो गाड़ी के चालको भगवान दास गोस्वामी (37) निवासी थाना बालोतरा बाडमेर, मनीष गौड़ (37) निवासी पाल रोड जोधपुर व विक्रम यादव (29) निवासी चिमनपुरा शाहपुरा जयपुर को हिरासत में लिया गया।
अभियुक्त विक्रम के पास 24 हैवी वाहनों की आरसी मिली। पूछताछ में उसने बताया कि वह अन्य राज्यों से गाड़ियों की फर्जी एनओसी तैयार कर आरटीओ ऑफिस में फर्जी दस्तावेजों से उन गाड़ियों की आरसी बनवाता हैं। उसके पास मिले इन आरसी के वाहनो का अभी अस्तित्व नहीं हैं। जैसे जैसे चोरी के वाहन उपलब्ध होंगे, तब इन रजिस्ट्रेशन के मुताबिक उन चोरी की गाड़ियों पर ईंजन व चेसिस नम्बर टेम्परिंग कर बदल दिये जाएंगे।
सोहना ताउ हरियाणा निवासी नाजिम ओर उसके साथी चौपहिया वाहन एवं ट्रक इत्यादि नई दिल्ली, गुड़गांव से चुराते है। उसके बाद विक्रम से फर्जी रजिस्ट्रेशन लेकर चोरी की गाड़ी के ईंजन व चेसिस नम्बर टेम्परिंग कर बदलकर आगे बेच देते हैं। भगवान दास व मनीष गौड़ को मात्र 1-1 लाख में बेची गई दोनों कार विक्रम ने पिछले महीने ही नाजिम से ली थी ।
  • Powered by / Sponsored by :