18 घंटें में 09 साल की नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्मी को गिरफ्तार कर, 05 दिन में माननीय न्यायालय द्वारा फैसला-20 साल का कारावास, 02 लाख रूपये जुर्माना

18 घंटें में 09 साल की नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्मी को गिरफ्तार कर, 05 दिन में माननीय न्यायालय द्वारा फैसला-20 साल का कारावास, 02 लाख रूपये जुर्माना

जयपुर, 5 अक्टूबर । पुलिस उपायुक्त, जयपुर दक्षिण श्री हरेन्द्रकुमार ने बताया कि दिनांक 26.9.2021 की रात्रि को ग्राम बालमुकुंदपुरा उर्फ बासड़ा निवासी एक व्यक्ति ने पुलिस थाना कोटखावदा जयपुर दक्षिण पर उपस्थित होकर अपनी 09 वर्षीय नाबालिग पुत्री के साथ गांव के ही आरोपी कमलेश मीना के द्वारा सुनसान जगह पर ले जाकर बलात्कार करने एवं गला दबाकर मारने का प्रयास करने के संबंध में रिपोर्ट पेश की जिस पर प्रकरण संख्या 215/21 धारा 376 (2) (I)आईपीसी व 3/4, 5/6 पोक्सो एक्ट में दर्ज कर अनुसंधान थानाधिकारी श्री जगदीश तंवर पुलिस निरीक्षक द्वारा किया प्रारम्भ किया गया ।
प्रकरण की गंभीरता को मद्देनजर वांछित आरोपी की तलाश व प्रकरण मे तत्काल सफलता प्राप्त करने हेतु श्री अवनीश कुमार अति.पुलिस उपायुक्त जयपुर दक्षिण के सुपरविजन एवं श्री देवी सहाय मीना सहायक पुलिस आयुक्त चाकसू के नेतृत्व में वृतचाकसू के समस्त थानाधिकारियों, जिला स्पेशल टीम प्रभारी तथा अपराध सहायक जयपुर दक्षिण की अलग-अलग टीमों का गठन कर वृतचाकसू के सभी थानों का 150 पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों का जाप्ता प्रकरण की तफ्तीश, मुल्जिम की गिरफ्तारी व साक्ष्य संकलन हेतु लगाया गया । जिन्होनें आपसी समन्वय रखते हुए पृथक-पृथक दिये गये टास्क को पूराकर प्रकरण का सम्पूर्ण अनुसंधान 18 घंटें में पूर्णकर मुल्जिम कमलेश मीणा पुत्र श्री शंकर लाल मीणा उम्र 25 साल के विरूद्ध माननीय न्यायालय पोक्सो कोर्ट क्रम 03 महानगर जयपुर में चालान पेश किया ।

प्रकरण में थानाधिकारी कोटखावदा श्री जगदीश तंवर पुलिस निरीक्षक को केस ऑफिसर नियुक्त किया गया । जिन्होने तत्परता से शीघ्रकार्यवाही करते हुए केवल 04 कार्यदिवसों में प्रकरण में कुल 19 गवाहों के बयान करवाये गये । पीड़िता के बयान न्यायालय में जरिये विडीयों कान्फ्रेंसिंग से करवाये गये । प्रकरण के संबंध में वांछित एफएसएल रिपोर्ट को अवकाश के दिन कार्यालय खुलावकर विशेष प्रयासकर शीघ्रप्राप्त कर न्यायालय में पेश की गई । प्रकरण में लोक अभियोजक की भूमि का सराहनीय रही है, जिन्होनें साक्ष्य को प्रभावी ढंग से न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया ।

आज दिनांक 05.10.2021 को माननीय न्यायालय पोक्सो क्रम 03 जयपुर महानगर द्वारा प्रकरण में आरोपी कमलेश मीणा को 20 वर्ष के कारावास एवं 02 लाख रूपयें जुर्माना की सजा सुनाई गई ।

इस प्रकार जयपुर पुलिस द्वारा नाबालिग बच्ची के साथ हुए बलात्कार में शीघ्रकार्रवाई कर मुल्जिम को सजा दिलवानें में अहम भूमि का निभाई है जिससे पुलिस के प्रतिआमजन में विश्वास अपराधियों में भय बनाया है ।

प्रकरण दर्ज होने के मात्र 18 घंटे में अनुसंधान पूर्ण कर चालान न्यायालय में पेश करने एवं 05 कार्य दिवसों में ट्रायलपूर्ण कर फैसला सुनाने का राजस्थान के न्यायिक इतिहास का संभवतया पहला मामला है ।
  • Powered by / Sponsored by :