जानिए पितृ मोक्ष अमावस्या का महत्व

जानिए पितृ मोक्ष अमावस्या का महत्व

यह श्राद्ध के महीने में आखरी दिन होता हैं, जो कि आश्विन की आमवस्या का दिनहोता हैं, इस दिन सभी तर्पण विधि पूरी करते हैं, इस दिन भूले एवम छूटे सभी श्राद्ध किये जाते हैं | इस दिन दान का महत्व होता हैं | इस दिन ब्राह्मणों एवम मान दान लोगो को भोजन कराया जाता हैं| पितृ पक्ष में पितृ मोक्ष अमावस्या का सबसे अधिक महत्व होता हैं |
सूर्य की अनंत किरणों में सर्वाधिक प्रमुख किरण का नाम अमा है । उस अमा नामक प्रधान किरण के तेज से ही सूर्य देव तीनों लोको को प्रकाशित करते हैं। उसी अमा किरणमें तिथि विशेष को चंद्रदेव निवास (वस्य) करते हैं, अतः इस तिथि का नाम अमावस्या है । अमावस्या प्रत्येक पितृ संबंधी कार्यों के लिए अक्षय फल देने वाली बताई गई है ।
आज के समय में व्यस्त जीवन के कारण मनुष्य तिथिनुसार श्राद्ध विधि करना संभव नहीं होता ऐसे में इस दिन सभी पितरो का श्राद्ध किया जा सकता हैं | श्राद्ध में दान का बहुत अधिक महत्व होता हैं | इन दिनों ब्राह्मणों को दान दिया जाता हैं जिसमे अनाज, बर्तन, कपड़े आदि अपनी श्रद्धानुसार दान दिया जाता हैं | इन दिनों गरीबो को भोजन भी कराया जाता हैं | श्राद्ध तीन पीढ़ी तक किया जाना सही माना जाता हैं इसे बंद करने के लिए अंत में सभी पितरो के लिए गया (बिहार), बद्रीनाथ जाकर तर्पण विधि एवमपिंड दान किया जाता हैं | इससे जीवन में पितरो का आशीर्वाद बना रहा हैं एवम जीवनपितृ दोष से मुक्त होता हैं |
सर्वपितृ अमावस्या के दिन सभी भूले-बिसरे पितरों का श्राद्ध कर उनसे आशीर्वाद की कामना की जाती है। सर्वपितृ अमावस्या के साथ ही 15 दिन का श्राद्धपक्ष खत्म हो जाता है। सर्वपितृ अमावस्या पर हम अपने उन सभी प्रियजनों का श्राद्घ कर सकते हैं, जिनकी मृत्यु की तिथि का ज्ञान हमें नहीं है। वे लोग जो किसी दुर्घटना आदि में मृत्यु को प्राप्त होते हैं, या ऐसे लोग जो हमारे प्रिय होते हैं किंतुउनकी मृत्यु तिथि हमें ज्ञात नहीं होती तो ऐसे लोगों का भी श्राद्ध इस अमावस्या पर किया जा सकता है।
जो लोग किसी कारण वश तिथि विशेष को श्राद्ध करना भूल गए या जिनकी कुंडली में पितृ दोष है वे इस दिन पितरो को प्रसन्न कर अपनी जन्म कुंडली के गृह को ठीक कर सकते है क्योंकि पितृ दोष की वजह से अछे गृह भी अच्छा फल देने में असफल रह ते रहते है इस दिन आप खीर पुड़ी का ब्राह्मण को भोजन करावें , वस्त्र दक्ष्ना देवे, कौवों को खीर खिलावे, गायों को हरा चारा खिलावें, बहन बेटी भांजी को खुश करें |
यदि कोई परिवार पितृदोष से कलह तथा दरिद्रता से गुजर रहा हो और पितृदोष शांति के लिए अपने पितरों की मृत्यु तिथि मालूम न हो तो उसे सर्वपितृ अमावस्या के दिनपितरों का श्राद्ध-तर्पणादि करना चाहिए, जिससे पितृगण विशेष प्रसन्न होते हैं औरयदि पितृदोष हो तो उसके प्रभाव में भी कमी आती है।