किस तारीख में करना चाहिए श्राद्ध?

किस तारीख में करना चाहिए श्राद्ध?

सरल शब्दों में समझा जाए तो श्राद्ध दिवंगत परिजनों को उनकी मृत्यु की तिथि परश्रद्धापूर्वक याद किया जाना है। अगर किसी परिजन की मृत्यु प्रतिपदा को हुई हो तोउनका श्राद्ध प्रतिपदा के दिन ही किया जाता है। इसी प्रकार अन्य दिनों में भी ऐसाही किया जाता है। इस विषय में कुछ विशेष मान्यता भी है जो निम्न हैं:
1. पिता का श्राद्ध अष्टमी के दिन और माता का नवमी के दिन किया जाता है।
2. जिन परिजनों की अकाल मृत्यु हुई जो यानि किसी दुर्घटना या आत्महत्या के कारणहुई हो उनका श्राद्ध चतुर्दशी के दिन किया जाता है।
3. साधु और संन्यासियों का श्राद्ध द्वाद्वशी के दिन किया जाता है।
4. जिन पितरों के मरने की तिथि याद नहीं है, उनका श्राद्ध अमावस्या के दिन कियाजाता है । इस दिन को सर्व पितृ श्राद्ध कहा जाता है।