जानिए क्यों आवश्यक है श्राद्ध करना.???

जानिए क्यों आवश्यक है श्राद्ध करना.???

हिंदू धर्म शास्त्रों में इस बात का उल्लेख है कि पितृ पक्ष में तर्पण व श्राद्ध करने से व्यक्ति के पूर्वज प्रसन्न होते हैं और उसे आशीर्वाद प्रदान करते हैं इससे घर के अंदर सुख शांति का वातावरण बनता है। इसके साथ ही समृद्धि भी होती है। इसके साथ यह भी मान्यता है कि अगर पितृ नाराज हो जाएं तो ऐसे व्यक्ति को जीवन में कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना होता है। पितरों के रुष्ट होने से धन हानि औरसंतान पक्ष से समस्याओं का सामना मनुष्य को करना होता है। संतानहीनता के मामलों में यह कहा जाता है कि ज्योतिषी से कुंडली के पितृ पक्ष (घर) को दिखवा लें और उसका समन भी करें। ज्योतिषी पितृदोष को देखकर पितृ दोष शमन की व्यवस्था करा देते हैं। पितृपक्ष के दौरान श्राद्ध अवश्य करनी चाहिए। माना जाता है कि यमराज 15 दिनों के लिए प्रत्येक वर्ष श्राद्ध पक्ष दौरान सभी जीवो को मुक्त कर देते हैं। जिससे यह सभी जीव अपने स्वजनों के पास पहुंचकर तर्पण, भोजन इत्यादि ग्रहण कर पाते हैं। शास्त्रों में ऐसा वर्णित है कि पितर ही अपने कुल की रक्षा करते हैं।