7 दिसंबर को होगा मतदान लोकतंत्र के महापर्व में 19 लाख 99 हजार से अधिक मतदाता करेंगे मताधिकार का प्रयोग

7 दिसंबर को होगा मतदान लोकतंत्र के महापर्व में 19 लाख 99 हजार से अधिक मतदाता करेंगे मताधिकार का प्रयोग

उदयपुर, 05 दिसंबर/विधानसभा आमचुनाव 2018 के तहत मतदान 7 दिसंबर को सुबह 8 से सायं 5 बजे तक होगा। लोकतंत्र के इस महापर्व में जिले भर की आठों विधानसभाओं में 19 लाख 99 हजार से अधिक मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे ।
भारत निर्वाचन आयोग से प्राप्त उदयपुर जिले की विधानसभावार सूचनानुसार इस बार जिले की आठों विधानसभा क्षेत्रों में 19 लाख 99 हजार 014 मतदाता 62 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने बताया कि विधानसभावार प्राप्त आंकड़ो के अनुसार गोगुन्दा विधानसभा में 245758, झाड़ोल में 244863, खेरवाड़ा में 268964, उदयपुर ग्रामीण में 257115, उदयपुर शहर 237196, मावली में 234484, वल्लभनगर में 246529 तथा सलुम्बर विधानसभा में 264105 मतदाता मतदान करेंगे।
बढ़े 2 लाख 86 हजार मतदाता
निर्वाचन आयोग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार विधानसभा चुनाव 2018 के तहत जिले भर में 2 लाख 86 हजार 080 मतदाता बढ़े है। पिछले रिकॉर्ड के अनुसार विधानसभा चुनाव 2013 के दौरान जिले के आठों विधानसभाओं में मतदाता की संख्या 1712934 थी जो 2018 में बढ़कर 1999014 हो गई है।
पिछली बार औसत 74.02 फीसदी मतदान
राज्य निर्वाचन आयोग से प्राप्त चुनावी आंकड़ों के अनुसार विधानसभा 2013 के दौरान जिले भर में कुल 74.02 फीसदी मतदान हुआ था। इसमें सर्वाधिक 80.57 फीसदी मतदान झाड़ोल विधानसभा व सबसे कम 68.04 फीसदी मतदान उदयपुर शहर विधानसभा क्षेत्र में दर्ज हुआ। वहीं गोगुन्दा विधानसभा क्षेत्र में 73.50 फीसदी, खेरवाड़ा में 72.68, उदयपुर ग्रामीण में 73.61, मावली में 76.99, वल्लभनगर में 77.98 तथा सलुम्बर विधानसभा क्षेत्र में 69.42 फीसदी मतदान दर्ज किया गया था।
प्रत्येक विधानसभा में व्यापक पुलिस इंतजाम
जिले की आठो विधान सभा क्षैत्रों में कानून एवं सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिगत व्यापक पुलिस व्यवस्था के इंतजाम किये गये है। मतदान दिवस पर सायः 5 बजे मतदान समाप्ति के तुरंत पश्चात् सभी विधानसभा क्षेत्रो की ईवीएम मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के सामाजिक एवं मानविकी महाविद्यालय में जमा कराई जावेगी। जिले में प्रत्येक विधान सभा का एक विधानसभा प्रभारी पुलिस अधिकारी लगाया गया है। तथा प्रत्येक विधान सभा प्रभारी के पर्यवेक्षण में तीन पुलिस सुपरवाईजरी अधिकारी नियुक्त किये गये है। प्रत्येक पुलिस सुपरवाईजरी अधिकारी को क्षैत्र की पुलिस मोबाईल निर्धारित संख्या में सुपरविजन हेतु पृथक से विभाजित की गई है।
लगभग 1400 वाहन अधिग्रहित
जिले में मतदान व्यवस्था के मद्देनजर नियुक्त अधिकारियों एवं कार्मिको के साथ मतदान दलों की रवानगी एवं प्रस्थान व्यवस्था के लिये लगभग 1400 वाहन अधिग्रहित किये गये है। जिनमें मतदान दलों के लिए 793 बस, मिनी बस व जीप, 150 आरक्षित वाहन व 450 पुलिस वाहन शामिल है।
15000 से अधिक अधिकारी कर्मचारी देंगे सेवाऐं
जिले भर में निष्पक्ष स्वतंत्र एवं शांति पूर्वक मतदान प्रक्रिया संपादित कराने के लिये 15000 से अधिक अधिकारी एवं कर्मचारियों की सेवाएं देंगे। इसमें मतदान दलों में 9161 मतदान कार्मिेक, 221 एरिया एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट, 4845 पुलिस एवं सुरक्षा अधिकारी, 186 व्यय एवं पर्यवेक्षक दल के कार्मिक, 133 माईक्रो आब्र्जवर, 1126 विभिन्न प्रकोष्ठ में तथा अन्य 286 अधिकारी-कार्मिक शामिल है।
जिले में 2245 मतदान केन्द्रो पर होगा मतदान
जिले की आठो विधान सभा क्षेत्रो में चुनाव मैदान में रहे प्रत्याशियो के भाग्य का फैसला शुक्रवार को होगा। जिले भर में कुल 2245 मतदान केन्द्रो पर चुनाव प्रक्रिया सम्पन्न होगी जिसमें गोगुन्दा में 298, झाडोल में 290, खेरवाडा में 323, उदयपुर ग्रामीण में 268, उदयपुर शहर में 218, मावली में 266, वल्लभनगर में 283 व सलुम्बर में 299 मतदान केन्द्र शामिल है। जिले में 157 अतिसंवेदनशील, 106 संवेदनशील व 1 कुछ सीमा तक संवेदनशील मतदान केन्द्र है।
वहीं जिले की समस्त विधानसभा क्षेत्रों में एक-एक आदर्श एवं महिला मतदान केन्द्र होंगे। वहीं उदयपुर शहर विधानसभा क्षेत्र के पुलां स्थित राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय में दिव्यांग मतदान केन्द्र की स्थापना की गई है। इस मतदान की विशेष बात यही है कि यहां समस्त दिव्यांग कार्मिक सेवाएं देंगे।
वाहन चालकों का प्रशिक्षण
चुनाव कार्य में लगे वाहन चालकों का प्रशिक्षण बुधवार को मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के राणा पूंजा सभागार में आयोजित किया गया। प्रादेशिक परिवहन अधिकारी डॉ. मन्नालाल रावत ने सड़क सुरक्षा-जीवन रक्षा के साथ यातायात नियमों का पालन करने का आह्वान किया। उन्होंने चुनाव ड्यूटी में जाने वाले वाहन चालकों को पूर्ण सावधानी बरतने एवं सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन करने की बात कही । श्री रावत ने बताया कि संबंधित वाहन चालकों को मतदान ड्यूटी से लौटते ही नियमानुसार भत्ता दिया जाएगा। इस अवसर पर डीटीओ डॉ.कल्पना शर्मा ने भी संबोधित किया। वाहन चालकों को गोल्डन नियम पॉकेट कार्ड, पेम्फलेट आदि भी वितरित किये गये।
  • Powered by / Sponsored by :