आदि महोत्सव 14 से शिल्पहाट, प्रदर्शनी व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का होगा आयोजन

आदि महोत्सव 14 से शिल्पहाट, प्रदर्शनी व सांस्कृतिक कार्यक्रमों का होगा आयोजन

उदयपुर, 11 जून/जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग, टीआरआई और भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर के संयुक्त तत्वावधान में 14 से 16 जून तक ‘‘आदि महोत्सव का आयोजन किया जाएगा।
टीएडी की अतिरिक्त आयुक्त अंजली राजौरिया ने बताया कि भारतीय लोक कला मण्डल, उदयपुर तथा टीआरआई के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में प्रतिदिन सायं 5 बजे से आदि शिल्प हाट एवं जनजाति माण्डना एवं भित्ति चित्रण प्रदर्शनी, सायं 8 बजे से जनजाति कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक प्रस्तुतियां तथा 16 जून को जनजाति प्रतिभा खोज प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। इस समारोह में राजस्थान के जनजाति कलाकार अपनी कला को प्रस्तुत करने के साथ-साथ एक-दूसरे की कला को निहार सकेंगे।
उन्होंने बताया कि राजस्थान की जनजाति कला के कलाकारों को प्रोत्साहित करने, उन्हे उचित प्रकार से मंच प्रदान करने तथा उनकी कला, शिल्प को प्रचारित करने तथा जन-जन तक पहुचांने के उद्देश्य से आयोजित इस समारोह में राजस्थान के लगभग 40 शिल्पकार, गुणीजन जो अपने जड़ी- बूटी के ज्ञान से लोगों को परिचित कराएगें तथा राजस्थान की वन सम्पदा में उपलब्ध जड़ी- बूटियों से किस प्रकार, किस -किस बीमारियों का इलाज हो सकता है, बताएगें। साथ ही शिल्पकार अपने शिल्प का प्रदर्शन एवं विक्रय करेगें। इस समारोह में ट्राईफेड के ट्राईबस इण्डिया द्वारा भी लगभग 10 स्टॉल लगाए जाएगे। जिनमें राजस्थान के विभिन्न क्षेत्रों के नायाब शिल्प नमूनों को प्रदर्शन एवं विक्रय किया जाएगा ।
कार्यक्रम के तहत 15 जून को अपरान्ह 3 बजे एक संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा जिसका विषय आधुनिक समय में आदिम संस्कृति का महत्व तथा इसे कैसे जीविका से जोड़ा जा सकता है । सेमीनार का बीज भाषण पद्मश्री चन्द्र प्रकाश देवल करेगे । अन्य वक्ताओं में हरिराम मीणा, डॉ. मालीनी काले, विलास जानवे एवं भगवान कच्छावा संबोधित करेंगे। 16 जून को रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ समारोह का समापन होगा। उन्होने यह भी बताया कि इस तीन दिवसीय समारोह में लगभग 400 कलाकार, शिल्पी, गुणीजन और विद्वान भाग लेंगे। समारोह के दौरान आमजन का प्रवेश निःशुल्क रहेगा।
  • Powered by / Sponsored by :