टोक्यो ओलंपिक : फ्रीस्टाइल कुश्ती में फाइनल में पहुँचे भारतीय पहलवान रवि दहिया

टोक्यो ओलंपिक : फ्रीस्टाइल कुश्ती में फाइनल में पहुँचे भारतीय पहलवान रवि दहिया

सोनीपत के गांव नाहरी के पहलवान रवि दहिया (Ravi Kumar Dahiya) ने बुधवार को टोक्यो ओलंपिक में शानदार प्रदर्शन किया। कुश्ती स्पर्धा के पुरुषों की फ्रीस्टाइल 57 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल में भारतीय पहलवान रवि दहिया ने कजाखस्तान के सानायेव नूरीस्लाम को हराकर कुश्ती के फाइनल में पहुंच गए हैं. चौथी वरीयता प्राप्त भारतीय 2-9 से पीछे था लेकिन दहिया ने वापसी करते हुए अपने विरोधी के दोनों पैरों पर हमला किया और सानायेव नूरीस्लाम को गिराया और जीतने में कामयाब रहे. पहले दौर के बाद दहिया के पास 2-1 की बढ़त थी लेकिन सनायेव ने उनके बायें पैर पर हमला बोलकर तीन बार उन्हें पलटने पर मजबूर करते हुए छह अंक ले लिये. ऐसा लग रहा था कि दहिया हार की तरफ बढ़ रहे हैं लेकिन संयम नहीं खोते हुए उन्होंने एक मिनट में बाजी पलट दी. सेमीफाइनल में जीत के साथ ही रवि दहिया के नाम पदक पक्का हो गया है.. अब वे फाइनल में गोल्ड जीतने के इरादे से उतरेंगे. रवि ने प्री क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया के पहलवान ऑस्कर टिगरेरोस उरबानो को 13-2 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया था.
केडी जाधव भारत को कुश्ती में पदक दिलाने वाले पहले पहलवान थे जिन्होंने 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था. उनके बाद भारत के लिए रेसलिंग में सुशील कुमार (2008, 2012), योगेश्वर दत्त (2012) और साक्षी मलिक (2016) पदक जीत चुके हैं. सुशील कुमार ने लंदन ओलंपिक 2012 में सिल्वर मेडल जीता था. जबकि साक्षी और योगेश्वर के नाम कांस्य पदक है.
रवि दहिया हरियाणा के सोनीपत जिले के नाहरी गांव से है, यह एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर पेयजल की उचित व्यवस्था नहीं है. बिजली भी कुछ घंटे आती है न ही वहां पर उचित सीवेज लाइन नहीं है. एक ऐसा गांव जहां सुविधाओं के नाम पर केवल एक पशु चिकित्सालय है. लेकिन रवि दहिया इस गाँव के तीसरे ओलंपियन हैं. यहाँ गांव वाले रवि दहिया का बेसब्री से इंतजार कर रहे है कि रवि दहिया ओलंपिक से पदक लेकर लौटे. रवि दहिया एक किसान के बेटे है और इस गांव के तीसरे ओलंपियन हैं. ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके महावीर सिंह (मास्को ओलंपिक 1980 और लास एंजिल्स ओलंपिक 1984) तथा अमित दहिया (लंदन ओलंपिक 2012) भी इसी गांव के रहने वाले हैं.
  • Powered by / Sponsored by :