सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक ही खुलेंगे बाजार, रविवार को साप्ताहिक अवकाश

सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक ही खुलेंगे बाजार, रविवार को साप्ताहिक अवकाश

सवाई माधोपुर, 31 जुलाई। जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये 4 अगस्त से बाजार खुलने का समय सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक निर्धारित किया गया है। रविवार को बाजारों में साप्ताहिक अवकाश रहेगा। रेस्टोरेंट शाम 8 बजे तक खुल सकेंगे, होटल के लिये समय पाबंदी नहीं रखी गयी है।
जिला कलेक्टर नन्नूमल पहाड़िया ने शुक्रवार को प्रेस वार्ता कर कोरोना प्रसार रोकने के लिये अब तक किये प्रयास और गत कुछ दिनों में पॉजिटिव संख्या में हुई वृद्धि के बारे में फैक्ट सामने रखे, पत्रकारों से सुझाव मांगे। उन्होंने सभी नागरिकों को रक्षा बंधन, ईद, गणेष चतुर्थी की हार्दिक शुभकामना देते हुये इन त्यौहारों को घर पर ही मनाने तथा बाजारों में भीड न करने, मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग रखने और एडवाइजरी की पूर्ण पालना की अपील की।
जिला कलेक्टर ने बताया कि शहरी क्षेत्र में सभी धार्मिक स्थल श्रृद्धालुओं के लिये बंद हैं। इन त्यौहारों के दौरान भी यह व्यवस्था जारी रहेगी। मंदिर-मस्जिद में सामूहिक पूजा-ईबादत वर्जित है। पुजारी और इमाम ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बिना श्रृद्धालुओं की उपस्थिति के मंदिर-मस्जिद में धार्मिक परम्पराओं का निर्वहन करेंगे। किसी भी स्थिति में इन स्थलों पर जमावडा नहीं होने दिया जायेगा। जिले के सभी धर्मगुरूओं ने संवेदनषीलता दिखाते हुये आगे आकर सभी श्रृद्धालुओं से निवेदन किया है कि घर पर ही पूजा-इबादत करें। इसका देष-दुनिया के सभी धर्मों के गुरूओं ने समर्थन भी किया है।
जिला कलेक्टर ने बताया कि उत्तर प्रदेष के मुख्य सचिव ने प्रदेष में बाहरी राज्यों के कांवडियों के प्रवेष पर रोक लगा दी है। सवाईमाधोपुर जिले में और दूसरे जिलों में भी कावड यात्रा या अन्य पद यात्रा की अनुमति नहीं है। गणेष चतुर्थी पर किसी भी प्रकार के जुलूस की अनुमति नहीं है। त्रिनेत्र गणेष मंदिर प्रबंधन ने भी साफ कर दिया है कि गणेष चतुर्थी पर श्रृद्धालुओं को मंदिर में प्रवेष नहीं दिया जायेगा। ईद के अवसर पर सामूहिक नमाज की इजाजत नहीं है। मुबारकबाद के लिये गले मिलने से कोरोना संक्रमण का खतरा है। इस बाबत मुस्लिम धर्म गुरूओं ने अपील भी जारी की है।
जिला कलेक्टर ने बताया कि जिले में आज तक 14830 सैम्पल लिये गये, 193 पाॅजिटिव केस दर्ज हुये। समय पर पता लगने और बेहतर देखभाल से इसमें से 142 पूर्ण स्वस्थ हो गये हैं। 12 व्यक्तियों की कोरोना से मृत्यु हुई है। इनमें से अधिकतर मामलों में रोगी को समय पर अस्पताल नहीं लाया गया और मृतक अन्य गम्भीर बीमारियों से भी पीडित थे। वर्तमान में जिले में 39 एक्टिव केस हैं। कुल मिलाकर जिले की स्थिति नियंत्रण में है लेकिन व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाने, समझाइष करने, जुर्माना लगाने के बाद भी काफी लोग सोशल डिस्टेंसिंग, मेडिकल प्रोटोकॉल की पालना नहीं कर रहे हैं, बेवजह सडकों और चाय की थडियों पर बिना मास्क लगाये जमावडा कर रहे हैं। उन्हें न तो अपनी जान की परवाह है, न दूसरों की। ऐसे लोगों के कारण ही गत 10-12 दिन में कोरोना के काफी मामले सामने आये हैं। आजीविका चलती रहे, अर्थव्यवस्था की गति बढे, इसके लिये लॉकडाउन में छूट दी गई है लेकिन आम आदमी की जान बचाना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। कलेक्टर ने बताया कि सोषल डिस्टंेसिंग तथा एडवाईजरी की पालना नहीं करने पर जुर्माना लगाने के साथ ही आईपीसी और महामारी एक्ट के अन्तर्गत मुकदमा दर्ज किया जायेगा।
जिला कलेक्टर ने बताया कि समय पर बीमारी का पता लगने, बेहतर देखभाल से अधिकांष मरीज पूर्ण स्वस्थ हो गये। इससे कुछ लोगों ने गलत धारणा बना ली है कि कोरोना खतरनाक नहीं है और कोई आज पाॅजिटिव आया है तो कल या परसों नेगेटिव भी आ जायेगा। यह धारणा गलत है। हम नहीं चाहते कि लापरवाही के कारण 1 भी व्यक्ति की जान जाये। सैम्पलिंग बढाने के निर्देष के बाद भी कुछ व्यक्ति सैम्पलिंग देने में आनाकानी कर रहे हैं। इससे बीमारी का समय पर पता नहीं चल पायेगा तथा उनकी एवं परिजनों की जान संकट में आ जायेगी।
जिला कलेक्टर ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में लाउडस्पीकर के माध्यम से 2 गज दूरी, बार-बार साबुन से हाथ धोने, घर पर ही इबादत/पूजा करने, सार्वजनिक स्थान पर न थूकने के लिये समझाइष कर रहे हैं।
पुलिस अधीक्षक सुधीर चैधरी ने बताया कि समझाइष के बाद भी एडवाइजरी का उल्लंघन होने पर अब जुर्माना लगाने की कार्रवाई कर रहे हैं। कोरोना काल में मोटर वाहन अधिनियम में 11 हजार मामले बनाये गये हैं, 1038 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया, मास्क न लगाने पर पुलिस ने 642 व्यक्तियों के विरूद्ध कार्रवाई की है। इस अवधि में बाइक चोरी की घटनायें बढी है। पुलिस इन चोर गिरोहों के खिलाफ सुनियोजित अभियान चला रही है।
एसपी ने बताया कि आरएसी के 100 जवानों की कोरोना जाँच करवाई गई। इन सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आयी है । अब इन्हें कोरोना नियंत्रण ड्यूटी पर लगाया जायेगा। इसके बदले 100 पुलिस जवानों को कुछ दिन का आराम मिलेगा ।
सीएमएचओ डॉ. तेजराम मीणा ने बताया कि कोरोना से रिकवर हो चुके मरीजों से सम्पर्क कर उन्हें प्लाज्मा डोनेट करने के लिये समझाया जा रहा है । 18 से 60 साल आयु का कोरोना रिकवर व्यक्ति प्लाज्मा दान कर कोरोना मरीजों की जान बचा सकता है । एसएमएस अस्पताल में प्लाज्मा बैंक बनाया गया है। वर्तमान में जयपुर, जोधपुर, कोटा और उदयपुर में प्लाज्मा थैरेपी की सुविधा उपलब्ध है। जिला अस्पताल में आगामी 10 दिनों में टोसिलीजूमेब इंजेक्शन एवं रेमीडेसिविर दवा जिला अस्पताल में उपलब्ध होने की सम्भावना है । इस इंजेक्शन की 1 डोज की कीमत 40 हजार रूपये है जिसे मुख्यमंत्री श्री अषोक गहलोत ने निःशुल्क उपलब्ध करवाया है । पीएमओ डॉ. बीएल मीणा ने बताया कि जिला अस्पताल में कोरोना जाँच केन्द्र 2 माह में बनकर तैयार होने की सम्भावना है। इसके लिये राज्य सरकार ने स्वीकृति दे दी है ।
मीडियाकर्मियों ने मास्क न लगाने वाले दुकानदारों, ग्राहकों और आमजन के विरूद्ध कडी कार्रवाई करने, पार्कों और बाजारों में भीड न लगने देने, टोंक बस स्टैण्ड के निकट श्रमिक चौखटी पर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना सुनिश्चित करवाने की मांग की। बैठक में एडीएम बीएस पंवार, जिला परिषद सीईओ सुरेष कुमार, एसडीएम रघुनाथ व मीडियाकर्मी उपस्थित रहे ।
  • Powered by / Sponsored by :