आपदा प्रबंधन के संबंध में बैठक

आपदा प्रबंधन के संबंध में बैठक

सवाई माधोपुर 11 जून। अतिरिक्त जिला कलेक्टर महेन्द्र लोढ़ा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में मंगलवार को आपदा प्रबंधन के संबंध में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई। बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर ने सभी विभागों से अतिवृष्टि या अन्य संभवित आपदाओं से निपटने के लिए अनावश्यक तैयारियां सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
लोढ़ा ने कहा कि आपदाओं से निपटने के लिए जिला आपदा प्रबंध समिति की महत्वपूर्ण भूमिका है और इसके लिए सभी विभागों को सामूहिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अतिवृष्टि से निपटने के लिए संभावित निचले स्थानों का चिन्हीकरण किया गया है। उन्होंने नगर परिषद के अधिकारियों से इसकी सूची 15 जून तक भिजवाने के निर्देश प्रदान किये। उन्होंने जिला परिषद और सार्वजनिक निर्माण विभाग को मिट्टी तथा सीमेन्ट के कट्टे तैयार रखने के निर्देश दिए। उन्होंने मत्स्य विभाग के अधिकारियों से गोताखोरों की सूची तैयार करने को कहा।
एडीएम ने बैठक में निर्देश दिए कि जेसीबी मषीनों की सूची तैयार की जाये। उन्होंने कहा कि निचले इलाकों में पानी भरने पर लोगों का आश्रय यदि छिनता है तो उन्हें स्कूल, धर्मशालाओं में आश्रय दिया जा सकता है । उन्होंने शिक्षा विभाग को यह सुनिष्चित करने के लिए कहा कि कोई भी स्कूल क्षतिग्रस्त भवन में संचालित नही हो। लोढ़ा ने बैठक में वनविभाग को निर्देश दिए कि वह जिले में स्थित पिकनिक स्पोर्ट्स पर कर्मचारियों की नियुक्ति करे, चेतावनी बोर्ड लगवाये तथा चेन लगवायें। उन्होंने मौसम विभाग को निर्देश दिए कि खराब मौसम की पूर्व चेतावनी तैयार करे तथा सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग को निर्देश दिए कि वह संबंधित विभागों से समन्वय कर आमजन के लिए उपयोगी सूचनाओं का विभिन्न माध्यमों पर समुचित प्रचार-प्रसार सुनिष्चित करें। उन्होंने एसडीएम और तहसीलदारोंग को निर्देश दिए कि आपदा से नुकसान होने पर तुरन्त आंकलन करे और सूचनाएं दे। साथ ही उन्होंने पटवारियों और तहसीलदारों को मुख्यालय पर ही रहने के निर्देश दिए।
अतिरिक्त जिला कलेक्टर ने बिजली, पानी तथा दूरसंचार जैसी आवष्यक सेवाओं को आपदा की स्थिति में तुरन्त बहाल करने के भी निर्देश प्रदान किये । उन्होंने रसद विभाग को निर्देश दिए कि वह केरोसीन, पेट्रोल, डीजल जैसी अनावश्यक वस्तुओं का भण्डार करें तथा आवश्यकता पड़ने पर भोजन के पैकेट की व्यवस्था भी सुनिश्चित करे । लोढ़ा ने चिकित्सा विभाग तथा पशुपालन विभाग को अनावश्यक दवाईयों की व्यवस्था, एम्बुलेन्स की सूची तथा सम्भावित बीमारियों से बचाव की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
बैठक में लोढ़ा ने जलदाय विभाग को नलों में गन्दा पानी आने की स्थिति में ब्लीचिंग पाउडर व अन्य केमिकल की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला परिवहन अधिकारी से नदियों में नावों से आवागमन की स्थिति में नावों की फिटनेस की जांच कर रिपोर्ट भिजवाने के निर्देश प्रदान किये। उन्होंने जल संसाधन विभाग से भी नलों की मरम्मत करवाकर फिटनेस सर्टिफिकेट लेने के भी निर्देश दिए। उन्होंने बांधो को जायजा लेने, दीवारों की स्थिति जानने तथा दरवाजों की ओइलिंग-ग्रीसिंग करने के भी निर्देश दिए।
एडीएम ने सार्वजनिक निर्माण विभाग को आपदा की स्थिति में क्षतिग्रस्त मार्गो की मरम्मत करने, पुलियाओं पर चेतावनी बोर्ड लगाने के निर्देश प्रदान किए। उन्होंने विद्युत विभाग के अधिकारियों से ट्रांसफार्मर ऊंचे करवाने तथा ढीले तारों को ठीक करवाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने पुलिस विभाग से आपदा की स्थिति में होमगार्ड, आरएसी तथा गोताखोरों की व्यवस्था करने को कहा।
कन्ट्रोल रूम स्थापित होंगे:- अतिरिक्त जिला कलेक्टर महेन्द्र लोढ़ा ने बैठक में सभी विभागों से आपदा प्रबंधन के लिए कन्ट्रोल रूम स्थापित करने एवं इसकी सूचना भिजवाने के निर्देश दिए।
बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक उमेष ओझा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
  • Powered by / Sponsored by :