पर्यावरण और ऊर्जा संरक्षण के लिये उत्तर पश्चिम रेलवे की प्रतिबद्वता

पर्यावरण और ऊर्जा संरक्षण के लिये उत्तर पश्चिम रेलवे की प्रतिबद्वता

बिजली की बचत और पर्यावरण संरक्षण का उत्तरदायित्व आज व्यक्ति विशेष का न होकर सभी का हो गया है। ऊर्जा संरक्षण के साथ पर्यावरण को सुदृढ़ बनाने के लिये रेलवे भी लगातार सकारात्मक कदम उठा रहा है, जिसमें परम्परागत संसाधनों के स्थान पर पर्यावरण अनुकूल स्त्रोतो का अधिकाधिक उपयोग किया जा रहा हैं ।
उत्तर पश्चिम रेलवे के उपहाप्रबंधक (सामान्य) व मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट शशि किरण के अनुसार श्री आनन्द प्रकाश, महाप्रबंधक-उत्तर पश्चिम रेलवे के दिशा-निर्देशों से उत्तर पश्चिम रेलवे प्रदुषण रहित तथा पर्यावरण संरक्षण के प्रति दायित्व के प्रयासों को गति प्रदान कर पर्यावरण संरक्षण की मुहिम को बढाने के साथ-साथ राजस्व की भी बचत कर रहा है। उत्तर पश्चिम रेलवे परिक्षेत्र सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए समृद्व है। इस रेलवे पर विगत समय में सौर ऊर्जा पर काफी कार्य किये गये है। इस रेलवे पर अभी तक कुल 7126 kWp क्षमता के सोलर पैनल स्थापित किये गये है। इन सौलर पैनल के स्थापित होने से इस रेलवे पर प्रतिवर्ष 93 लाख से अधिक यूनिट की ऊर्जा की बचत की जा रही है तथा 5.64 करोड रूपये के राजस्व की बचत की जा रही है।
हरित ऊर्जा की पहल के अन्तर्गत जयपुर स्टेशन पर 500 kWp क्षमता के 02 तथा अजमेर स्टेशन पर 500 kWp क्षमता का 01 तथा जोधपुर स्टेशन पर कुल 770 kWp के उच्च सोलर पैनल स्थापित कर ऊर्जा प्राप्त की जा रही है । उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्राधिकार में जोधपुर वर्कशॉप (440 kWp), अजमेर कार्यषाला (192 kWp) मण्डल रेल प्रबंधक कार्यालय-जोधपुर (200 kWp), क्षेत्रीय रेलवे प्रषिक्षण संस्थान-उदयपुर (210 kWp), भगत की कोठी (कुल 250 kWp) मारवाड़ जं. (120 kWp) सहित अन्य स्टेशनों पर भी सौलर पैनल स्थापित कर विद्युत उत्पादन किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त इस वर्ष उत्तर पश्चिम रेलवे में 8.68 मेगावॉट क्षमता के सोलर सिस्टम लगाने के कार्य प्रगति पर है ।
श्री आनन्द प्रकाश, महाप्रबंधक-उत्तर पश्चिम रेलवे के मार्गदर्शन अनुसार उत्तर पश्चिम रेलवे के विभिन्न स्थानों पर सोलर प्लांट की स्थापना के लिए 528.63 हेक्टेयर (1306.27 एकड़) क्षेत्रफल के 32 खाली भूखण्डों की पहचान कर स्वीकृत किये गये है । प्रथम चरण में 450 एकड़ जमीन की 2 लोकेशनों पर 84 मेगावॉट क्षमता के सौलर पॉवर पैनल तथा तृतीय चरण में 30 एकड़ जमीन की 01 लोकेशन पर 6 मेगावॉट क्षमता के सौलर पॉवर पैनल हेतु, आर.ई.एम.सी.एल. द्वारा निविदा आमंत्रित कर ली गई है।
रेलवे का प्रयास है कि पर्यावरण और ऊर्जा संरक्षण के लिये यथा संभव कार्य किये जाये और पर्यावरण अनूकुल स्त्रोतो का अधिकाधिक उपयोग किया जाये । रेलवे का सौर ऊर्जा पर यह प्रयास निरंतर और अनवरत जारी है।
  • Powered by / Sponsored by :