बीएसडीयू ने संपर्क रहित प्रवेश प्रक्रिया को अपनाया विभिन्न विषयों में बैचलर ऑफ वोकेशनल प्रोग्राम के लिए किए आवेदन आमंत्रित

बीएसडीयू ने संपर्क रहित प्रवेश प्रक्रिया को अपनाया विभिन्न विषयों में बैचलर ऑफ वोकेशनल प्रोग्राम के लिए किए आवेदन आमंत्रित

अध्ययन के विषयः ऑटोमोटिव स्किल्स, बिल्डिंग एंड मेंटीनेंस, कंस्ट्रक्शन स्किल्स, इलैक्ट्रिक स्किल्स, एंटरप्रेन्योरशिप स्किल्स, एंटरप्रेन्योरशिप स्किल्स (ब्यूटी एंड वेलनेस), हेल्थकेयर स्किल्स (पीआरएस), होटल मैनेजमेंट एंड टूरिज्म स्किल्स, आईटी/नेटवर्किंग स्किल्स, मैन्यूफेक्चरिंग स्किल्स, मेटल कंस्ट्रक्शन स्किल्स, ऑफिस एडमिनिस्ट्रेशन स्किल्स, प्लम्बिंग स्किल्स, आरएसी स्किल्स, रिन्यूएबल एनर्जी टैक्नोलॉजी स्किल्स, टेलीकॉम स्किल्स, वीएलएसआई डिजाइन स्किल्स, वुडवर्किंग स्किल्स।
बी. वोक. प्रोग्राम पेजः https://ruj-bsdu.in/bsdu-jaipur-b-voc-programs/
भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी, जयपुर (2017 के राजस्थान राज्य विधान अधिनियम नंबर 3 के माध्यम से निगमित) 005-001.002, डोमेस्टिक टैरिफ एरिया, महिंद्रा वर्ल्ड सिटी (एसईजेड), जयपुर - 302042
उल्लेखनीय प्लेसमेंट्सः- कुछ ऐसी कंपनियों के नाम जहां बीएसडीयू के छात्रों को नियोजित किया गया है- फोस्र्क टैक्नोलॉजीज, एचएमटी, अशोक लीलैंड, एयरटेल, यूरेका फोब्र्स, एपीरियो, आईबीएम, एचसीएल, सिस्को, जीनस, महिंद्रा ट्रेक्टर्स, डायकिन, टाटा, श्री सीमेंट, हीरो मोटोकॉर्प, पेर्टो, आरएस इंडिया, आरयूजे इलेकॉन, आरयूजे वुडक्राफ्ट, आदि।
भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी, जयपुर (बीएसडीयू) कौशल विकास कार्यक्रमों की पेशकश करने वाले अग्रणी विश्वविद्यालयों में से एक है। इसे राजस्थान सरकार द्वारा राज्य विधान मंडल अधिनियम 2017 की संख्या 3 और अधिसूचित अधिसूचना संख्या एफ 2 (4) विधि/2017 दिनांक 30 मार्च, 2017 द्वारा शामिल किया गया है। यूजीसी ने अपने पत्र क्रमांक एफ.8-14/2017 (सीपीपी-आई/पीयू) दिनांक 4 अगस्त 2017 के अनुसार विश्वविद्यालयों की अपनी सूची में बीएसडीयू को शामिल किया है। हाल ही में फैली कोविड - 19 महामारी के कारण बीएसडीयू ने संपर्क रहित प्रवेश प्रक्रिया शुरू की है। विश्वविद्यालय अपने 3-वर्षीय बी. वोक. पाठ्यक्रम के लिए आवेदन आमंत्रित करता है, जहां पाठ्यक्रम 60 प्रतिशत स्किल्स और 40 प्रतिशत सामान्य शिक्षा घटकों पर केंद्रित है। बीएसडीयू प्रशिक्षण के स्विस-ड्यूल सिस्टम की अनुपालना करता है जहाँ 1.5 वर्ष तक की औद्योगिक इंटर्नशिप की पेशकश होती है, अर्थात छात्र को हर वैकल्पिक सेमेस्टर में व्यावहारिक औद्योगिक माहौल से अवगत कराया जाता है। यह एक ऐसी सुविधा है, जो किसी अन्य विश्वविद्यालय द्वारा उपलब्ध नहीं कराई जाती है।
किसी भी विश्वविद्यालय की असली मजबूती उसके छात्र होते हैं और इन अर्थों में उन्हें संस्थान के ब्रांड एम्बेसडर के रूप में माना जाता है। बीएसडीयू का प्रशिक्षण और प्लेसमेंट सेल छात्रों की आकांक्षाओं का पूरा ध्यान रखता है और उन्हें पूरा करने का हरसंभव प्रयास करता है। साथ ही यह उद्योग की आवश्यकताओं के अनुरूप भर्ती करने वालों की जरूरतों और छात्रों के स्किल के साथ एक महत्वपूर्ण संबंध बनाता है। छात्रों को अपनी दिलचस्पी के क्षेत्र में कौशल को सुरक्षित रखने और आगे बढ़ाने की स्वतंत्रता है और साथ ही बीएसडीयू सॉफ्ट स्किल ट्रेनिंग, व्यक्तित्व विकास, आंतरिक इंटर्नशिप के दौरान संकाय और प्रशिक्षकों की पूर्ण भागीदारी के माध्यम से उनके कौशल को बढ़ाता है और भारत और विदेश में बेहतरीन कंपनियों के प्लेसमेंट में उत्कृष्ट सहयोग करता है। छात्रों को मॉक इंटरव्यू, समूह चर्चा, तकनीकी/सामान्य विषयों पर प्रस्तुतियों और विश्वविद्यालय के बाहर एक पूरे नए एक्सपोजर के लिए तैयार करने वाली उद्यमिता की कठोर प्रक्रिया के माध्यम से तैयार किया जाता है। वर्ष 2020 में 100 से अधिक कंपनियों ने इंटर्नशिप के लिए बीएसडीयू कैम्पस का दौरा किया। इस दौरान 378 विद्यार्थी इंटर्नशिप के लिए चुने गए और सर्वाधिक स्टाइपेंड रहा 25,000 रुपए प्रति माह।
बीएसडीयू के प्रेसीडेंट प्रो. अचिंत्य चौधरी कहते हैं, भारतीय कौशल विकास विश्वविद्यालय एकमात्र ऐसा विश्वविद्यालय है जो अत्याधुनिक सेट-अप और बुनियादी ढांचे की पेशकश करता है, और जहां उद्योग के विशेषज्ञों द्वारा डिजाइन किया गया पाठ्यक्रम उपलब्ध है। बीएसडीयू ने सिर्फ नौकरी तलाशने वाले छात्र तैयार करने की बजाय हमेशा छात्रों को उद्यमी बनाने की विचारधारा के साथ उन्हें आगे बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया है। विश्वविद्यालय ने प्रतिष्ठित संगठनों के साथ मजबूत सहयोग किया है और इसी सहयोग के बलबूत अपने पाठ्यक्रम में 1.5 साल की इंटर्नशिप के माध्यम से छात्रों को संपूर्ण औद्योगिक ज्ञान प्रदान किया जाता है। यह प्रक्रिया न केवल भारत बल्कि दुनिया भर में उद्योगों और संगठनों के लिए छात्रों को प्रशिक्षित संसाधन के तौर पर प्रस्तुत करने के लिए उपयोगी है।
प्रो. चौधरी ने आगे कहा, बी.वोक. प्रोग्राम को इस तरह डिजाइन किया गया है, ताकि विद्यार्थी अपने विषय में न सिर्फ ज्ञान हासिल कर सकें, बल्कि वे आवश्यक तकनीकी कौशल भी हासिल करने में सफल हो सकें। राजस्थान में स्थित हमारे विश्वविद्यालय में ऐसे संकाय सदस्य कार्यरत हैं जो हमारे छात्रों को प्रशिक्षित करने वाले उद्योगों में अपने-अपने क्षेत्रों में अनुभवी हैं। हमारे छात्र वैश्विक संस्कृति का अनुभव करते हैं क्योंकि उन्हें अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षकों और परियोजना प्रबंधकों द्वारा ट्रेनिंग दी जाती है।
यूजीसी ने नेशनल स्किल क्वालिफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) पर आधारित बी. वोक. और एम. वोक. कार्यक्रमों को मंजूरी दी है, ताकि देश में स्किल सेट्स की महत्वपूर्ण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए स्नातक स्तर के छात्र तैयार किए जा सकें। ये पाठ्यक्रम अब किसी भी अन्य स्नातक डिग्री प्रोग्राम के बराबर हैं।
पात्रता: बी.वोक. पाठ्यक्रम के लिए आवेदन करने वाले छात्र को उत्तीर्ण होना चाहिएः-
1. 10+2 की हायर सैकण्डरी सर्टिफिकेट परीक्षा अथवा समकक्ष
2. 10 वीं के बाद 2 साल की आईटीआई
3. पॉलिटेक्निक डिप्लोमा धारकों को बी.वोक. के दूसरे वर्ष में लेटरल एंट्री के लिए योग्य माना जाएगा
पाठ्यक्रम संबंधी विनिर्देश: बी.वोक. कार्यक्रम में डिप्लोमा, एडवांस्ड डिप्लोमा और बी.वोक. के दौरान अनेक एंट्री और एक्जिट प्वाइंट हैं। इसमें 6 सेमेस्टर हैं, जिनमें से प्रत्येक के 30 क्रेडिट निर्धारित हैं। बी.वोक. डिग्री प्राप्त करने के लिए कुल 180 क्रेडिट अर्जित करने होंगे।
स्कॉलरशिपः
मेरिट स्कॉलरशिप
बी. वोक. (अंडरग्रेजुएट) छात्र जिन्हें सीधा प्रवेश मिलता है
10+2 या समकक्ष परीक्षा में 90 प्रतिशत और अधिक अंक लाने वाले छात्र शिक्षण शुल्क की 100 प्रतिशत राशि के बराबर स्कॉलरशिप के हकदार होंगे।
बी. वोक. (अंडरग्रेजुएट) छात्र जिन्हें यूनिवर्सिटी प्रवेश परीक्षा के जरिये प्रवेश मिलता है
ऐसे छात्र जो यूनिवर्सिटी प्रवेश परीक्षा के माध्यम से प्रवेश लेते हैं और जो परीक्षा में 90 प्रतिशत या अधिक अंक हासिल करते हैं, वे शिक्षण शुल्क की 50 प्रतिशत राशि के बराबर स्काॅलरशिप के हकदार होंगे।
समय पूर्व फीस कन्सेशन
ऐसे छात्र जो 31 जुलाई, 2020 से पूर्व प्रवेश ले लेते हैं, उन्हें शिक्षण शुल्क में 25 प्रतिशत की रियायत दी जाएगी।
स्कॉलरशिप/फीस कन्सेशन के बारे में और अधिक जानकारी के लिए विजिट करें -
https://ruj-bsdu.in/scholarship/
कंपनियों में नौकरी के बेहतरीन अवसरों के अलावा, बी.वोक. डिग्री धारक आईएएस, आईपीएस, डिफेंस ऑफिसर्स और अन्य केंद्रीय और राज्य सेवाओं के लिए भी पात्र होंगे।
वर्चुअल प्रवेश प्रक्रिया
यूनिवर्सिटी ने एक संपर्क रहित प्रवेश प्रक्रिया को अपनाया है। काउंसलिंग, वर्चुअल ओपन हाउस, पंजीकरण, प्रवेश परीक्षा, दस्तावेज सत्यापन से लेकर शुल्क जमा करने की प्रक्रिया तक पूरी प्रवेश प्रक्रिया ऑनलाइन है। छात्र और अभिभावक इन सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं और अपने घरों के आराम से बीएसडीयू जयपुर का अनुभव कर सकते हैं। अन्य सभी विवरण प्राप्त करने के लिए वे हमारे प्रवेश संबंधी सरलीकृत पेज पर जा सकते हैं - https://ruj-bsdu.in/bsdu-admission-simplified/
महत्वपूर्ण जानकारी
ऽ आवेदन पत्र बीएसडीयू के प्रशासनिक ब्लॉक में प्रवेश कार्यालय के माध्यम से अथवा बीएसडीयू की वेबसाइट - www.ruj-bsdu.in. से डाउनलोड किए जा सकते हैं। विधिवत भरे हुए फॉर्मों को admissions@ruj-bsdu.in पर जमा कराना होगा। अधिक जानकारी के लिए 9828882458 पर संपर्क करें या लिखें - admissions@ruj-bsdu.in

बी. वोक. डिग्री यूजीसी अनुमोदित डिग्री है, यह किसी भी अन्य ग्रेजुएट डिग्री के समकक्ष है, और यह देश में स्किल सेट्स की महत्वपूर्ण आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नेशनल स्किल क्वालिफिकेशन फ्रेमवर्क (एनएसक्यूएफ) पर आधारित है।

1. आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि: 31 जुलाई, 2020
2. समय पूर्व रजिस्ट्रेशन पर फीस में रियायत 31 जुलाई, 2020 तक उपलब्ध है
3. सीटों की संख्या: सभी बी.वोक. पाठ्यक्रम में - 30 (मैन्यूफेक्चरिंग स्किल्स को छोड़कर, जिसमें सीटों की संख्या है 60)
4. शुल्क: 60,000 रुपए से 1,00,000 रुपए प्रति वर्ष
5. पाठ्यक्रम की अवधि: बी.वोक. के लिए 3 वर्ष
6. बी.वोक. 6 सेमेस्टर का है (प्रत्येक में 30 क्रेडिट)
7. कुल क्रेडिट: बी.वोक. के लिए 180 क्रेडिट
8. बीएसडीयू में बी. वोक. ट्रेनिंग 1,3 और 5 सेमेस्टर
9. इंडस्ट्री में बी. वोक. ट्रेनिंग 2,4 और 6 सेमेस्टर
10. इंटर्नशिप - 100 फीसदी इंटर्नशिप रिकॉर्ड, 1.5 वर्ष के इंडस्ट्री के अनुभव के साथ विद्यार्थी अपना पाठ्यक्रम पूरा करते हैं।
11. कुल क्रेडिटः बी. वोक. के लिए कुल 180 क्रेडिट
  • Powered by / Sponsored by :