वनाधिकार पट्टों के मामले में उदासीनता बरतने पर कलक्टर हुईं नाराज

वनाधिकार पट्टों के मामले में उदासीनता बरतने पर कलक्टर हुईं नाराज

उदयपुर, 11 जून/जिले की काया ग्राम पंचायत मुख्यालय पर मंगलवार को वनाधिकार पट्टों को लेकर ग्राम सभा का आयोजन किया गया। स्वयं जिला कलेक्टर श्रीमती आनंदी ने ग्राम सभा में पहुंच कर ग्रामीणों से संवाद किया। वनाधिकार पट्टों के कार्य में वन विभाग के कर्मचारियों एवं पटवारी की उदासीनता को देखते हुए जिला कलक्टर बहुत नाराज हुई और तुरंत ही लंबित प्रकरणों की पत्रावली तैयार कर ग्राम सभा में रखने और उन्हें अग्रेषित करने के सख्त निर्देश दिए।
हाल ही में जिला कलक्टर ने एक बैठक लेकर जिले में वनाधिकार पट्टों के मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए पूर्व में निरस्त प्रकरणों में से जांच कर पट्टे देने योग्य पाए जाने वाले प्रकरणों को ग्राम सभा के माध्यम से उपखंड अधिकारी समिति एवं जिला स्तरीय समिति तक अग्रेषित करने के निर्देश दिए थे। इसी क्रम में काया में 42 प्रकरणों के संबंध में कार्यवाही हेतु ग्राम सभा आयोजित की गई थी। इस ग्राम सभा में योग्य प्रकरणों को प्रस्तुत कर अनुमोदन पश्चात उपखंड अधिकारी स्तर की समिति को भेजना था। लेकिन वन विभाग के कर्मचारियों की उदासीनता एवं लंबी छुट्टी पर गए पटवारी की उदासीनता के चलते प्रकरणों पर यथोचित प्रगति नहीं हुई। इस बात पर जिला कलक्टर बहुत नाराज हुई और वन विभाग के कर्मचारियों एवं पटवारी को फटकार लगाई।
उदासीनता बरतने वालों के विरूद्ध करें कार्रवाई
ग्राम सभा में उपस्थित उपखंड अधिकारी हनुमान सिंह राठौड़ एवं विकास अधिकारी को जिला कलक्टर ने निर्देश दिए कि वे अन्य ग्राम पंचायतों में भी निरीक्षण करें। इसी तरह की उदासीनता पाई जाती है तो संबंधित कार्मिकों के विरुद्ध कार्रवाई करें।
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पूर्व में निरस्त वनाधिकार पट्टों में से योग्य पाए जाने वालों को वनाधिकार पट्टे जारी करने की कार्यवाही चल रही है। इसके पश्चान नए आवेदन लिए जाएंगे।
  • Powered by / Sponsored by :