नहरबंदी के दौरान कुशल प्रबन्धन से दें किसानों व आमजन को राहत

नहरबंदी के दौरान कुशल प्रबन्धन से दें किसानों व आमजन को राहत

जयपुर, 21 फरवरी। ऊर्जा, मंत्री एवं श्री गंगानगर जिले के प्रभारी डॉ. बी.डी. कल्ला रविवार को श्री गंगानगर कलक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक ली।
डॉ. कल्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की मंशा के अनुरूप मार्च में होने वाली नहरबंदी के दौरान कुशल प्रबन्धन से किसानों व आमजनों को राहत दें। रबी की फसल अवश्य पकें व नहरों में सीवरेज का पानी न मिले। जलसंसाधन, इंदिरा गांधी नहर परियोजना व भाखड़ा नहर प्रबन्धन समिति समन्वय कर आमजन को नहरबंदी के दौरान कोई समस्या आने ना दें। जनसंसाधन विभाग के अधीक्षण अभियन्ता ने बताया कि भाखड़ा व पोंग डेम में पिछले वर्ष के मुकाबले 40 फुट पानी कम है।
उन्होंने बताया कि गंग कैनाल में 20 दिन का क्लोज़र रहेगा व विभाग ने पूरी तैयारी कर ली है। इंदिरा गांधी नहर परियोजना के अधिकारियों ने आशस्त किया कि जिले में स्टोरेज के साधनों का पूर्ण उपयोग कर पानी की कमी नही होने दी जाएगी। पीएचईडी विभाग के अधीक्षण अभियन्ता श्री बलराम शर्मा ने बताया कि उनका विभाग तैयारी कर चुका है व इस विषय में जल परिवहन के लिए टेण्डर कर दिए हैं और प्रपोजल जयपुर भिजवा दिया गया है तथा डिग्गियां व ट्यूबेल की मरम्मत की जा रही है।
प्रथम व द्धितीय चरण में जिले में टीकाकरण अभियान के तहत 74 प्रतिशत टीकाकरण किया गया। सीएमएचओ डॉ0 गिरधारी लाल मेहरड़ा ने बताया कि जिले में कोविड-19 के 15 एक्टिव केस है तथा कोई भी गंभीर मरीज नही हैं। जिले में कोविड की नई लहर का कोई मरीज नही है तथा मौसमी बीमारियां भी नियंत्रण में हैं। उन्होने बताया कि जिले में 50 नये डॉक्टर्स ने जोईन किया है तथा नया पैरामेडिकल स्टॉफ भी जिले को उपलब्ध करवाया गया हैं। उन्होंने बताया कि सामुदायिक केन्द्रों को आदर्श बनाने के लिए डिमाण्ड राज्य सरकार को भेजी जाएगी।
प्रभारी मंत्री ने नरेगा योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि जिन गांव में कार्य चल रहा हो, उन्ही गांव के श्रमिकों को प्राथमिकता दी जाए, जिससे हर गांव में ही श्रमिकों को काम मिले। यूआईटी सचिव डॉ0 हरीतिमा जोशी ने बताया कि उन्होने जिले के लिए 702 लाख के काम स्वीकृत किए है। शहर में नगर परिषद, आरयूआईडीपी व यूआईटी द्वारा सीवरेज, पाईपलाईन, वाटर टी्रटमेंट का काम प्रगति पर है। प्रभारी मंत्री ने निर्देश देते हुए कहा कि नहरों व पीने के पानी में अशुद्धि न रहे तथा सीवरेज का पानी इसमें ना मिले इसके लिए समय-समय पर पानी की जांच अवश्य करें। गार्गी पुरस्कार में 1545 व इंदिरा प्रियदर्शनी पुरस्कारों में जिले में 29 बालिकाओं को शिक्षा विभाग द्वारा लाभांवित किया गया।
जिला कलक्टर श्री महावीर प्रसाद वर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की वीसी में दिए गए निर्देशानुसार गैर खातेदारी से खातेदारी दिए जाने के लिए प्रत्येक प्रकरण में जांच कर कार्यवाही की जा रही है। शनिवार को ही उन्होंने स्वयं 17 खातेदारी, सनद जारी की है व जिले में सभी उपखण्ड़ अधिकारियों को शिविर लगाकर खातेदारी जारी करने के निर्देश जारी किए जा चुके है। जिला कलक्टर ने मिनी सचिवालय के पास सड़क बनाने के लिए निर्देश जारी किए थे, उसके तहत आरएसआरडीसी ने सड़कों के वर्क ऑर्डर जारी कर दिए है व पेड काटने के ऑर्डर भी दिए जा चुके हैं, शीघ्र ही ब्लाक्स की नीलामी के बाद निर्माण कार्य शुरू होगा। प्रभारी मंत्री ने निर्देश देते हुए कहा कि मिनी सचिवालय के टॉप पर छतरियां बनाई जाए, ताकि राजस्थान की कला के मुताबिक भवन तैयार किया जा सके।
प्रभारी मंत्री डॉ0 कल्ला ने कहा कि सभी अधिकारी अपने कार्यालयों में एक घण्टा निश्चित रखें ताकि जनता का कार्य तीव्रगति से हो तथा निस्तारण का रिकार्ड अवश्य रखें। जनप्रतिनिधियों को की जा रही कार्यवाही के विषय में अवश्य सूचित करें।
प्रभारी मंत्री ने की पुलिस विभाग की प्रगति की समीक्षा
जिला पुलिस अधीक्षक श्री राजन दुष्यन्त ने बताया कि जिले में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति सामान्य है। उन्होंने बताया कि श्रीगंगानगर जिला सीमावर्ती होने के कारण अन्तर्राज्यीय गैंग्स सक्रिय रहते हैं। पुलिस द्वारा गत सप्ताह कार्यवाही करते हुए 15 गैंग्सटर्स को पकड़ा गया। उन्होने कहा कि कई इलाके पंजाब व हरियाण की सीमा से लगते हैं, जहां से तस्करी के मामले भी प्रकाश में आए हैं। अक्सर पंजाब के तस्कर वीडियोंग्राफी कर स्थानीय लोगों के खेतों की मदद से तस्करी करते हैं। पुलिस द्वारा इन्हे रोके जाने के लिए पंजाब पुलिस द्वारा मिलकर कार्यवाही की जा रही है व इस सिलसिले में 4-5 स्थानीय लोगों को गिरफ्तार भी किया गया हैं। उन्होने बताया कि जिले में नशे के विरूद्ध अभियान चलाया जा रहा है व पुलिस थानों द्वारा भी ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता अभियान चलाया गया है। उन्होने कहा कि जिले में डी-एडिक्शन सेंटरर्स की कमी है, अतः इसे पॉलिसी बनाकर शीघ्र खोला जाए।
प्रभारी मंत्री डॉ बी.डी. कल्ला ने सभी विभागों की समीक्षा करते हुए उन्हें नियमों के पालम करने व फैसले गरीबों के हित में करने की सलाह दी। उन्होने कहा कि स्वच्छ व पारदर्शी गर्वनेंस दें। बैठक में मौजूद श्रीगंगानगर विधायक श्री राजकुमार गौड़ ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के सहयोग से कार्य कर जनता को लाभांवित करें। सादुलशहर विधायक श्री जगदीश जांगिड़ ने कहा कि किसानों को दिन भी 6 की जगह 7 घण्टे बिजली दी जाए ताकि उन्हे कोई समस्या न हों। करणपुर विधायक श्री गुरमीत सिंह कुन्नर ने कहा कि क्षेत्र के सभी किसानों की समस्याएं दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं और नहरबंदी के समय कोई समस्या आने नहीं दी जाएगी। जिला कलक्टर ने सभी विभागों की प्रगति पर सन्तोष व्यक्त किया व प्रभारी मंत्री को आश्वासन दिया कि सभी कार्य राज्य सरकार की मंशानुरूप ही किए जाएंगे। बैठक में स्थानीय जनप्रतिनिधि संबंधित अधिकारी मौजूद थे ।
  • Powered by / Sponsored by :