स्वच्छता सैनिक गलियों, चैराहों, सड़कों पर कचरा न टिकने देने की मुहिम को कर रहे साकार

स्वच्छता सैनिक गलियों, चैराहों, सड़कों पर कचरा न टिकने देने की मुहिम को कर रहे साकार

जयपुर, 6 जनवरी। महापौर श्री मनोज भारद्वाज तथा आयुक्त श्री विजयपाल सिंह केआह्वान पर टीम जयपुर पूर्ण सक्रियता से शहर की सफाई व्यवस्था को चाक चैबन्द करने में जुट गई है। 4 जनवरी से 31 जनवरी 2019 तक चलने वाले स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 में जयपुर को अव्वल लाने की मुहिम को सफल बनाने के लिये स्वच्छता सैनिक भी मुस्तैदि से गलियों, चैराहों और सड़कों पर कचरा न टिकने देने के संकल्प के साथ कार्य कर रहे है ।
गीला सूखा कचरा अलग कर, डस्टबिन लगाकर, पोलिथिन उपयोग बन्द कर जयपुर कर सकता है बेहतरः-
महापौर श्री मनोज भारद्वाज का कहना है कि जयपुर नगर निगम की ओर से प्रमुख मार्गो और चैराहों तथा सार्वजनिक स्थानों पर नये डस्टबिन लगवाये जाने के निर्देश दिये गये है। वहीं जयपुर के सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठान भी डस्टबिन लगाकर तथा पोलिथिन का उपयोग न कर के स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 में बेहतर प्रदर्शन कर सकते है।इसके साथ ही गीला और सूखा कचरा भी अलग करने से सर्वेक्षण में अंक मिलेंगे ।
नागरिकों की सहभागिता भी है जरूरीः-
आयुक्त श्री विजयपाल सिंह का कहना कि यदि जयपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण-2019 मेंअच्छे पायदान पर आना है तो इसके लिये जयपुर नगर निगम की टीम, अन्य सरकारी एवं गैर सरकारी विभाग तथा संस्थाओं, व्यापारिक एवं व्यावसायिक प्रतिष्ठानों तथा आम जन को स्वच्छता के महा अभियान में अपने-अपने स्तर पर योगदान देना होगा।
जयपुर के आम नागरिक सात सवालों का जबाव देकर अपने शहर को ला सकते है अव्वलः-
1. क्या आपको जानकारी है कि आपके शहर की नगर निगम स्वच्छता सर्वेक्षण-2019 में शामिल है |
2. क्या आप निगम द्वारा किए जाने वाली सफाई व्यवस्था से संतुष्ट हैं |
3. क्या आपको व्यावसायिक ओर सार्वजनिक स्थानों पर आसानी से कचरे के लिटरबिन दिखाई देते हैं |
4. क्या नगर निगम आपसे सूखा व गीला कचरा अलग-अलग करके देने के लिए कहता हैं |
5. क्या आपको मालूम है कि आपके घरों से कचरा एकत्र होकर किस स्थान पर सेग्रिगेषन, लैंड-फिल व प्रोसेसिंग प्लांट के पास पहुंचता हैं |
6. क्या आपको पब्लिक टायलेट व यूरिनल शहर में आसानी से उपलब्ध है और वह साफ हैं |
7. क्या आपका शहर खुले में शौच से मुक्त घोषित किया गया
  • Powered by / Sponsored by :