गीले एवं सूखे कचरे के साथ घरेलू हानिकारक कचरे का भी करना होगा पृथक्करण

गीले एवं सूखे कचरे के साथ घरेलू हानिकारक कचरे का भी करना होगा पृथक्करण

जयपुर, 31 जुलाई। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 शुरू हो चुका है। कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिये इस वर्ष से घरेलू हानिकारक कचरे (जैसे सीएफएल, सिरिंज, मास्क, डायपर, सेनेटरी नेपकिन आदि ) को भी गीले एवं सूखे कचरे की तरह अलग रखना होगा। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में इस व्यवस्था को अनिवार्य किया गया है। डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण करने वाले हूपरों में भी गीले एवं सूखे कचरे के साथ हाउस होल्ड हजार्डस् वेस्ट को इकट्ठा करने की अलग से व्यवस्था होगी। नगर निगम जयपुर ग्रेटर एवं हैरिटेज आयुक्त दिनेश कुमार यादव एवं लोकबन्धु ने संयुक्त अध्यक्षता में शुक्रवार को आयोजित बैठक में बीवीजी कम्पनी के प्रतिनिधियों को हूपरों में यह व्यवस्था जल्द से जल्द शुरू करवाने के निर्देष दिये है।
मुख्य कॉमर्शियल एरिया/बाजारों में सुचारू होगी नाइट स्वीपिंग-
सभी जोन उपायुक्तों एवं स्वास्थ्य निरीक्षकों को निर्देष दिये है कि उनके क्षेत्र में आने वाले मुख्य कॉमर्शियल एरिया/बाजारों में रात्रिकालीन सफाई व्यवस्था तत्काल प्रभाव से सुचारू करवाये। गौरतलब है कि लॉकडाउन के दौरान कुछ क्षेत्रों में यह व्यवस्था बंद हो गई थी।
दोनों निगमों का बनाया जा रहा है सिटी प्रोफाइल-
जयपुर शहर में अब नगर निगम जयपुर गे्रटर एवं हैरिटेज के रूप में दो निगम कार्य कर रहे है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में दोनो निगम अलग-अलग भागीदारी करेगे। इसी को ध्यान में रखते हुये दोनों निगमों का अलग-अलग सिटी प्रोफाइल तैयार किया जा रहा है। इसके लिये सभी जोन उपायुक्तों को डेटा फिडिग करवाने के निर्देश दिये गये है । उपायुक्तों से प्राप्त जानकारी के आधार पर दोनों निगमों का सिटी प्रोफाइल तैयार किया जायेगा । गौरतलब है कि सिटी प्रोफाइल में उस निगम के आवासीय, व्यवसायिक, सार्वजनिक क्षेत्रों की जानकारी के साथ-साथ वार्डो, जनसंख्या, पर्यटन स्थलों, पार्कों, सार्वजनिक शौचालयों, रेल्वे स्टेशनों, बस स्टेण्ड आदि की जानकारी समाहित होती है ।
इस दौरान अतिरिक्त आयुक्त अरूण गर्ग सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे ।
  • Powered by / Sponsored by :