महिलाओं की सुरक्षा व अधिकारों के प्रति जागरूक करने हेतु चालाया जा रहा है ऑपरेशन आवाज

महिलाओं की सुरक्षा व अधिकारों के प्रति जागरूक करने हेतु चालाया जा रहा है ऑपरेशन आवाज

धौलपुर, 13 अक्टूबर। महिलाओं, बालिकाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने, उन्हें अपने अधिकारों व कानूनों के प्रति जागरूक करने, समाज में लैंगिक समानता उत्पन्न करने, महिला अपराधों में कमी लाने तथा समाज में महिला सुरक्षा एवं सम्मान का भाव जागृत करने के उद्देश्य से 13 अक्टूबर से 12 नवम्बर तक विशेष अभियान आवाज का संचालन किया जाएगा। इस सम्बन्ध में अभियान के सफल संचालन के लिए जिला कलक्टर राकेश कुमार जायसवाल की अध्यक्षता में नगर परिषद ऑडिटोरियम में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में उन्होंने कहा कि महिला अत्याचार के प्रकरणों के रोकथाम के प्रति समाज में जागरूकता लाने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा विशेष अभियान ‘‘एक्शन अगेन्स्ट वीमन रिलेटेड क्राईम एण्ड अवेयरनेस फॉर जस्टिस’’ (आवाज) का क्रियान्वयन आगामी 12 नवम्बर तक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान के दौरान पुलिस, महिला अधिकारिता, शिक्षा, पंचायतीराज, चिकित्सा, समाज कल्याण विभाग समन्वय स्थापित कर महिला अत्याचार की घटनाओं को रोकने के साथ-साथ महिलाओं को उनकी सुरक्षा सम्बन्धी कानूनों के प्रति जागरूक करते हुए युवाओं में नारी सम्मान के महत्व को समझाने के लिए प्रयास करेगें। उन्होंने सभी उपखण्ड अधिकारियों को विभागों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए गांव व कस्बों में छोटे-छोटे समूह में महिला जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए। इन कार्यक्रमों में महिला सामाजिक संगठनों, विधि वक्ताओं तथा अन्य विभाग जो कि महिला उत्थान के लिए कार्य कर रहे उन्हें शामिल करने के निर्देश दिए। कार्यक्रमों के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की पालना तथा मास्क वितरण कार्य करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने सभी विभागों को अपने स्तर पर कार्यक्रमों की श्रृंखला तैयार कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए ताकि संगठित तरीके से अभियान का व्यापक प्रचार-प्रसार हो सकें तथा महिलाओं को इसका अधिकाधिक लाभ मिलें। उन्होंने राजीविका के अन्तर्गत आने वाले महिला स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं, एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशासहयोगिनी को महिला सशक्तिकरण की अहम कड़ी बताते हुए विभागीय अधिकारियों को इनके माध्यम से महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने अभियान की सफलता हेतु सभी विभागों के बेहतर समन्वय हेतु अपने सम्पर्क नम्बर व हैल्पलाईन नम्बर आपस में आदान-प्रदान करने तथा जिला कन्ट्रोल रूम व गरिमा हैल्पलाईन नम्बर का अधिकाधिक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। उन्होंने महिला अधिकारिता विभाग को महिला कानून सम्बन्धी जानकारी की ई-बुक छपवाने के निर्देश दिए। साथ ही इस अभियान का पोस्टरर्स, बेनर व अन्य माध्यमों से व्यापक प्रचार-प्रसार करने के निर्देश दिए। शिक्षा विभाग को बालिका विद्यालय व महिला महाविद्यालयों में महिला जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए।
बैठक के दौरान जिला पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत ने कहा कि वर्तमान समय में महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों को देखते हुए इस प्रकार के कार्यक्रम की विशेष आवश्यकता थी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को उनके सम्बन्धित कानून के बारे में जागरूक करने तथा आमजन को कानून के विषय में अवगत कराने हेतु प्रत्येक पंचायत स्तर पर अपनी बात बैठक का आयोजन किया जाएगा। जिसमें सभी थानाधिकारी अपने बीट कांस्टेबलों सहित विभिन्न राजकीय कर्मचारियों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आशासहयोगिनियों, एएनएम व अन्य स्वयं सेवी संस्थाओं के सहयोग से क्षेत्रा के 15 से 30 वर्ष के युवाओं को कार्यक्रम में शामिल करते हुए महिला अत्याचार सम्बन्धी कानून एवं महिला सुरक्षा व सम्मान के सम्बन्ध में जानकारी देगे। उन्होंने सभी पुलिस उप अधीक्षकों को अपने-अपने क्षेत्रा में बनाए गए पुलिस मित्रों, ग्राम रक्षकों व सीएलजी सदस्यों के सक्रिये सहयोग से महिला अपराध के सम्बन्धी कानून के बारे में जानकारी देने के निर्देश दिए। साथ ही सभी पुलिस थानों में महिला हैल्पडेस्क के बेहतर क्रियान्वयन हेतु निर्देश दिए। इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर नरेन्द्र कुमार वर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बचन सिंह मीणा, जिला वन अधिकारी कैलाश चन्द मीणा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोपाल गोयल, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीणा, सहित सभी उपखण्ड अधिकारी, पुलिस उप अधीक्षक व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे ।
  • Powered by / Sponsored by :