मुख्यमंत्री का पुलिस पर नियंत्रण नहीं रहा, महिला अपराधों में प्रदेश नम्बर वन: अनीता भदेल

मुख्यमंत्री का पुलिस पर नियंत्रण नहीं रहा, महिला अपराधों में प्रदेश नम्बर वन: अनीता भदेल

जयपुर, 13 अक्टूबर। भाजपा प्रदेश कार्यालय में प्रदेश प्रवक्ता व विधायक अनीता भदेल एवं भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष चन्द्रकांता मेघवाल ने प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि, जिस तरह से मुख्यमंत्री के पास गृह मंत्रालय है, उनसे तो यह अपेक्षा की जानी चाहिये थी कि राजस्थान में अपराध घटते, क्योंकि स्वयं मुख्यमंत्री के पास गृह मंत्रालय है, लेकिन राजस्थान में अपराधों की घटना जिस तेजी से बढ़ रही है, उनकी कल्पना नहीं की जा सकती। पुलिस का इकबाल खत्म हो गया है ।
भदेल ने कहा कि, मुख्यमंत्री का पुलिस पर नियंत्रण नहीं रहा है, जितने भी एन्टीकरप्शन के पिछले दो वर्ष में मुकदमे दर्ज हुए हैं, उन एन्टीकरप्शन के मामलों में पुलिस विभाग में सबसे ज्यादा दर्ज हुए हैं। इस बात से स्पष्ट है कि एक महिला जो पीड़ित है यदि वो पुलिस में शिकायत लेकर जाती है, तो किस प्रकार से उसे न्याय मिलेगा। जितने मुकदमे दर्ज हुए हैं, उनमें से 41 प्रतिशत मुकदमे ऐसे है जो अभी जांच के दायरे में ही चल रहे हैं। इस बात से भी हम यह अंदाजा लगा सकते है कि यदि 41 प्रतिशत मुकदमे जांच के दायरे में ही है तो फिर महिला को समय पर न्याय कैसे मिलेगा।
भदेल ने कहा कि, अपराधी इस तरीके से बेखौफ है कि दिन में मुख्य सड़क पर किसी महिला को इस तरीके से छीना-झपटी की जाये, उससे जबरदस्ती की जाये यह जयपुर में कुछ दिनों पहले आप पत्रकार साथियों ने बहुत अच्छी तरह से देखा है। बलात्कार की घटनाएं बारां, अलवर, अजमेर, चुरू, हनुमानगढ़ पूरे राजस्थान में कोई भी जिला ऐसा शेष नहीं बचा है जहां बलात्कार की घटनाएं नहीं हुई हों । जयपुर में यह आंकड़ा सबसे ज्यादा है। सोचो जयपुर तो राजधानी है राजस्थान बलात्कार के मामलों में पूरे देशभर में पहले नम्बर पर है और उसी प्रकार से दहेज हत्या और बाकि के मामलों में भी महिला अपराधों को लेकर के राजस्थान पहले नम्बर पर है और अनुसूचित जाति, जनजाति के अपराधों को लेकर राजस्थान दूसरे नम्बर पर है। तो हम कैसे कल्पना कर सकते हैं कि राजस्थान में कोई सरकार नाम की चीज चल रही है।
भदेल ने कहा कि, मेरा सीधा-सीधा मुख्यमंत्री पर आरोप है कि अभी तो आप समीक्षा कर रहे है अपने घोषणा पत्र की, पर यह घोषणा पत्र में यह बात लिखी थी कि पारदर्शी शासन देंगे, हम सुशासन देंगे, हम भय रहित शासन देंगे, हम महिलाओं को सुरक्षा देंगे, वो महिलाओं की सुरक्षा आप कह रहे हैं कि हमने 50 प्रतिशत से ज्यादा घोषणा पत्र के वादों को पूरा किया है, यहां तो आप 50 प्रतिशत क्या 500 प्रतिशत माइनस में जा रहे हैं, इसकी समीक्षा कौन करेगा और इसकी समीक्षा कब करेंगे। क्योंकि दो वर्षों में यह हाल हुआ है कि अभी तो दो वर्ष पूरे नहीं हुए हैं सरकार अपने बचाव के लिए दिन-रात चिंता करती है, लोगों के, महिलाओं के बचाव के लिए आप कब चिंता करेंगे, यह मेरा सरकार से बहुत बड़ा प्रश्न है। बहुत सारे मामले ऐसे हैं जिसमें लूट, डकैती और हत्या के मामले हत्या जैसा जघन्य अपराध दिन-दहाड़े मेरे अजमेर क्षेत्र में विक्रम शर्मा की हत्या सुपारी लेकर की जाती है, जयपुर में पट्रोल पंप मालिक जब पैसे लेकर जाता है तो उसकी लूटने के इरादे से हत्या कर दी जाती है, यह तो एक आम बात हो गई है।
  • Powered by / Sponsored by :