आरएफसी के ऋण उद्यमियों को चैक अनादरण मामले में सजा

आरएफसी के ऋण उद्यमियों को चैक अनादरण मामले में सजा

भीलवाडा, 21 अगस्त/ राजस्थान वित निगम भीलवाडा से ऋण लेकर बकाया राशि की किश्त के एवज में दिये गये चैक के अनादरण पर विशिष्ट न्यायिक मजिस्ट्रेट (एनआई एक्ट) ने उद्यमी को 12 माह के साधारण कारावास की सजा सुनाई है।
राजस्थान वित निगम के उप प्रबंधक ने बताया कि प्रकरण संख्या 2 में एनआई एक्ट, 138 (बी) के प्रावधानों के तहत उद्यमी राजीव अग्रवाल पुत्र कमल नयन अग्रवाल, डायरेक्टर होटल उत्सव द्वारा प्रकरण में निगम की ऋण राशि की किश्त के एवज में 12 लाख रुपए के चैक के अनादरित हो जाने पर दण्डादेश जारी करते हुए राजीव अग्रवाल को 12 माह के साधारण कारावास तथा राजस्थान वित निगम को 15 लाख प्रतिकर के रुप में अदा करने की सजा सुनाई है। उक्त राशि अदा न करने पर 3 माह के अतिरिक्त कारावास के आदेश भी जारी किये गये हैं।
  • Powered by / Sponsored by :