बालश्रम की करें प्रभावी रोकथाम

बालश्रम की करें प्रभावी रोकथाम

भीलवाडा, 20 अगस्त/ अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) नरेन्द्र जैन ने कहा कि श्रम विभाग, चाईल्ड लाईन, पुलिस विभाग तथा श्रम संगठनों तथा टास्कफोर्स द्वारा संयुक्त अभियान चलाकर बालश्रम की प्रभावी रोकथाम की जानी चाहिए। जिले में कोई भी बंधुआ या बाल श्रमिक पाया जाता है तो उसके पुनर्वास संबंधी समुचित व्यवस्था भी की जाए।
अतिरिक्त जिला कलक्टर मंगलवार को कलेक्ट्रेट कार्यालय में आयोजित बालश्रम रोकथाम हेतु गठित टास्क फोर्स की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चाईल्ड लाईन द्वारा विभिन्न स्थानों पर बाल श्रमिक कार्यरत होने की सूचना पर पुलिस विभाग द्वारा मुक्त कराये गये बालकों के मामले में बकाया चालान शीघ्र प्रस्तुत किये जाए तथा मुक्ति प्रमाण पत्रा भी जारी किए जाएं। बंधुआ श्रमिकों को सहायता राशि का भी समय पर भुगतान हो।
उन्होंने कहा कि ईट भट्टों पर कार्यरत श्रमिकों के बच्चों के लिए शिक्षा विभाग द्वारा समुचित शिक्षण व्यवस्था की जाए। ऐसे बच्चों के लिए पर्याप्त बजट की उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए अधिकाधिक बच्चों को शिक्षण से जोडा जाए। डीएमएफटी के बजट से भी शिक्षण व्यवस्था के लिए फण्ड प्राप्त करने के प्रयास किये जाएं। चाईल्ड लाईनद्वारा बाल श्रमिकों की रोकथाम हेतु अधिकाधिक प्रचार प्रसार, पेम्पलेट्स आदि का वितरण तथा कच्ची बस्तियों में जागरुकता शिविरों का आयोजन किया जाए।
बैठक में श्रमिक नेता प्रभाष जोशी ने कहा कि रजिस्टर्ड श्रम संगठनों के प्रतिनिधियों को भी डीएमएफटी की प्रशासनिक कमेटी में सम्मिलित किया जाए।
भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिकों को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करने हेतु लागू प्रावधानों का प्रभावी क्रियान्वयन किया जाए। विभाग द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत निर्माण श्रमिकों को उपलब्ध करवाई जाने वाली सहायता राशि का समय पर भुगतान किया जाए। सिलिकोसिस के प्रभाव से बीमार या मृत्युशुदा श्रमिकों के आश्रितों को सहायता राशि का तुरन्त भुगतान किया जाए।
  • Powered by / Sponsored by :