मौद्रिक नीति समिति की बैठक में होम लोन की EMI पर कोई राहत नहीं, दिसम्बर से मिलेगी आरटीजीएस की चौबीसो घंटे सेवा - रिजर्व बैंक गवर्नर

मौद्रिक नीति समिति की बैठक में होम लोन की EMI पर कोई राहत नहीं, दिसम्बर से मिलेगी आरटीजीएस की चौबीसो घंटे सेवा - रिजर्व बैंक गवर्नर

नई दिल्‍ली। मौद्रिक नीति समिति की तीन दिन चली समीक्षा बैठक के बाद रिजर्व बैंक गवर्नर शक्‍तिकांत दास ने घोषणा की. कि भारतीय अर्थव्यवस्था कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान में निर्णायक चरण में प्रवेश कर रही है. उन्‍होंने कहा, अप्रैल-जून तिमाही में अर्थव्यवस्था में आई गिरावट के बाद अर्थव्यवस्था में वापस सुधार हो रहा है.
उन्‍होंने कहा कि जीडीपी में चालू वित्त वर्ष में 9.5 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. हालांकि, चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी और जनवरी-मार्च तिमाही में यह पॉजिटिव दायरे में पहुंच सकती है. उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं करके होम लोन की EMI पर कोई राहत नहीं दी है, रेपो रेट 4% और रिवर्स रेपो रेट 3.35% परसेंट पर बरकरार हैं. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि देश में रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) सुविधा दिसंबर, 2020 से 24 घंटे उपलब्‍ध कराई जाएगी। ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के लिए आरटीजीएस एक प्रमुख सेवा है। इससे पहले आरबीआई ने सभी बैंकों को निर्देश दिया है कि वे बचत खाता धारकों के लिए एनईएफटी और आरटीजीएस के जरिए होने वाली सभी ऑनलाइन पेमेंट्स को मुफ्त करें।
आरबीआई ने कहा है कि आरटीजीएस के चौबीसो घंटे उपलब्ध होने से भारतीय वित्तीय बाजार को वैश्विक बाजार के साथ समन्वित करने के निरंतर जारी प्रयासों तथा भारत में अंतराष्ट्रीय वित्तीय केद्रों के विकास में की मदद होगी। इससे भारतीय कंपनियों और संस्थाओं को भुगतान में और आसानी होगी।
रिजर्व बैंक ने जुलाई 2019 से एनईएफटी और आरटीजीएस के जरिये धन अंतरण पर शुल्क लेना बंद कर दिया था।
देश में डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया गया।
आरटीजीएस के जरिये बड़ी राशि का त्वरित अंतरण किया जाता है जबकि एनईएफटी का इस्तेमाल दो लाख रुपए तक की राशि को भेजने के लिए किया जाता है।
फिलहाल सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक RTGS सेवा उपलब्‍ध होती है। फिलहाल छुट्टी के दिन RTGS सेवा नहीं चलती है लेकिन दिसंबर से छुट्टी के दिन भी यह सेवा उपलब्‍ध रहेगी। ऑनलाइन बैंकिंग के जरिए बड़े ट्रांजैक्‍शन के लिए इस्तेमाल होती है RTGS सेवा। RTGS सेवा के जरिए कम से कम 2 लाख रुपए की ट्रांजैक्‍शन की जा सकती है, अधिकतम ट्रांजैक्शन की कोई लिमिट नहीं है।
  • Powered by / Sponsored by :